आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए ‘वोकल’ बनना है: PM मोदी

by

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित किया. PM मोदी ने कहा कि आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए ‘वोकल’ बनना है, न सिर्फ लोकल Products खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है. मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि एक वायरस ने दुनिया को तहस-नहस कर दिया. बीते 6 वर्षों में जो रिफॉर्म हुए, उनके कारण आज संकट के इस समय भी भारत की व्यवस्थाएं अधिक सक्षम, अधिक समर्थ नज़र आईं हैं. आत्मनिर्भरता,आत्मबल और आत्मविश्वास से ही संभव है. आत्मनिर्भरता, ग्लोबल सप्लाई चेन में कड़ी स्पर्धा के लिए भी देश को तैयार करती है.

पीएम ने इस दौरान सबसे बड़े आर्थिक पैकेज का ऐलान भी किया. पीएम ने कहा कि वो देश की 10 प्रतिशत जीडीपी के बराबर आर्थिक पैकेज का ऐलान कर रहे हैं जो 20 लाख करोड़ रुपये का होगा. इसके साथ ही पीएम ने चौथे लॉकडाउन को लेकर भी संकेत दे दिए. उन्होंने कहा कि चौथा लॉकडाउन नए रंग-रूप के साथ होगा और इसके नियम भी अलग होंगे.

लॉकडाउन का चौथा चरण, लॉकडाउन 4, पूरी तरह नए रंग रूप वाला होगा, नए नियमों वाला होगा। राज्यों से हमें जो सुझाव मिल रहे हैं, उनके आधार पर लॉकडाउन 4 से जुड़ी जानकारी भी आपको18 मई से पहले दी जाएगी.

पीएम मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में कहा कि,”सतर्क रहते हुए ऐसी जंग के सभी नियमों का पालन करते हुए अब हमें बचना भी है और आगे भी बढ़ना है. हमें अपना संकल्प और मजबूत करना होगा. ये संकल्प इस संकट से भी विराट होगा. हम पिछली शताब्दी से सुनते आए हैं कि 21वीं सदी हिंदुस्तान की है.”

भारत को बनना होगा आत्मनिर्भर

पीएम ने कहा कि हमें आत्मनिर्भर भारत बनाना होगा. उन्होंने कहा, एक राष्ट्र के तौर पर आज हम एक अहम मोड़ पर खड़े हैं. भारत के लिए इतनी बड़ी आपदा एक संदेश लेकर और एक अवसर लेकर आई है. पीएम ने उदाहरण देते हुए कहा कि, जब कोरोना संकट शुरू हुआ तब भारत में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी. एन-95 मास्क का कम उत्पादन होता था. आज भारत में ही हर रोज 2 लाख पीपीई और 2 लाख एन-95 मास्क बनाए जा रहे हैं. हम ये इसलिए कर पाए क्योंकि भारत ने आपदा को अवसर में बदल दिया.

पीएम मोदी ने कहा कि, “अर्थ केंद्रित वैश्वीकरण बनाम मानव केंद्रीय वैश्वीकरण की चर्चा जोरों पर है. भारत में आशा की किरण नजर आती है. भारत की संस्कृति और भारत के संस्कार वसुदैव कुटुंबकम की बात करती है. भारत जब आत्मनिर्भरता की बात करता है तो आत्म केंद्रित व्यवस्था की वकालत नहीं करता है. भारत की आत्मनिर्भरता में संसार की भी चिंता होती है.”पीएम मोदी ने कहा कि “मैं विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा करता हूं. ये पैकेज आत्मनिर्भर भारत की कड़ी के तौर पर काम करेगा. पहले के ऐलान को मिला दें तो ये 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज है. ये पैकेज भारत की जीडीपी का करीब 10 प्रतिशत है. ये पैकेज देश की विकास यात्रा को नई गति देगा.”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.