Take a fresh look at your lifestyle.

तस्‍वीरें: मुरी हिंडाल्‍को में कास्टिक तालाब धंसा, कई वाहन समेत दर्जन भर लोग दबे

0

Ranchi: झारखंड में मुरी स्थित (Accident in Hindalco) हिंडाल्को कंपनी स कुछ दूरी पर स्थित  रेड मड पौंड (कास्टिक तालाब) के अचानक धंस जाने से काफी दूर तक रेड मड फैल गया है. इसमें कई वाहन और दर्जन भर लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है.

जानकारी के अनुसार इस हादसे में अभी तक एक ड्राइवर के मौत की बात कही जा रही है. हालांकि अभी तक किसी की मौत की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की गयी है.

Hindalco5

जांच के आदेश

इस बीच मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस घटना में जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही बचाव और राहत कार्य तेज करने को कहा है.

इधर रांची के उपायुक्त राय महिमापत रे एसडीओ गरिमा सिंह समेत पुलिस और प्रशासन के कई अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे हैं. साथ ही एनडीआरएफ की टीम भी मुरी पहुंच गयी है.

मुख्य सचिव डीके तिवारी ने दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के आयुक्त को जांच की जिम्मेदारी सौंपी है और शीघ्र रिपोर्ट देने को कहा है.

बड़े वाहन भी इसमें दब गए

यह जगह झारखंड की राजधानी रांची से 60 किलोमीटर दूर है. इसी जगह से कुछ दूर आगे बढ़ने पर बंगाल राज्य की शुरुआत होती है.

Hindalco3

कास्टिक तालाब के धंस जाने से मलबा बहकर आसपास के खेतों और तालाब में पहुंच गया है. जबकि रेड मड पौंड साइट पर काम में लगे कई बड़े वाहन भी इसमें दब गए हैं.

खबरों के मुताबिक मलबे के ढेर के बीच ही कम से केम आधे दर्जन हाइवा, पोकलेन पेलोडर पलटे हुए थे.

क्या है कास्टिक पौंड

गौरतलब है कि हिंडालको कारखाने में बाक्साइड से अलुमिनियम का उत्पादन होता है. उत्पादन के दौरान जो कास्टिक निकलता है उसमें लाल रंग की मिट्टी के अलावा रसायन और पानी मिला होता है. इसका रंग लाल होता है इसलिए इसे रेड मड भी कहा जाता है.

Hindalco4

बेहद हानिकारक होने के कारण इसे रिहायशी इलाके से दूर जमा किया जाता है. और तालाब की सुरक्षा के लिए गार्डवाल भी बनाए गए हैं. साथ ही एहतियात के तौर पर बोर्ड भी लगाए गए हैं.

विस्फोट के बाद टूटा तालाब

जानकारी के मुताबिक दोपहर में करीब डेढ़ बजे कास्टिक तालाब में विस्फोट हुआ और मलबा गार्डवाल को तोड़ते हुए लगभक एक किलोमीटर के दायरे मे फैल गया. इससे आसपास के इलाकों में अफरातफरी मच गयी. कई लोग घर छोड़कर भागने लगे.

खेतों में मलबा के बहने से फसलों को भी नुकसान पहुंचा है.  कास्टिक तालाब से सटे मारदू तालाब भी मलबा भर गया है. बिजली के खंभों को भी नुकसान पहुंच है. इससे मारदू गांव में अंधेरा फैल गया है.

कास्टिक पौंड के एक किनारे से मूरी-चांडिल रेलखंड है. लिहाजा मलबा रेललाइन पर भी आ गया. इस वजह से इस रेलखंड पर की घंटे तक रेल सेवा बाधित रही. काफी मशक्कत के बाद रेल सेवा शुरू कराई जा सकी है. एहतियान रेलवे के कर्मचारियों को भी तैनात किया गया है.

Hindalco2

सुदेश कुमार महतो पहुंचे हिंडालको

इस हादसे के बाद पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदेश कुमार महतो समेत कई लोग घटना की जानकारी लेने पहुंचे. सुदेश कुमार महतो ने हिंडालको के अधिकारियों से भी हालात की जानकारी ली. उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से भी बातें की. साथ ही जान- माल की क्षति नहीं हो इस पर विशेष ध्यान देने को कहा है.

सुदेश कुमार महतो ने स्थानीय लोगों और मजदूरों से भी बातें की और उनसे सावधानी बरतने को कहा है. इधर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने इस घटना को हिंडालको प्रबंधन की लापरवाही का परिणाम बताया है. उन्होंने कहा है कि यह दुखद है कि कोई रेस्क्यू टीम शाम के छह बजे तक नहीं पहुंची. उन्होंने तत्काल राहत कार्य चलाने की मांग की है.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More