Take a fresh look at your lifestyle.

कोरोना मरीज अस्पताल में भर्ती, न घर को कंटेनमेंट जोन बनाया न परिजनों का सैंपल लिया

Support Journalism
0 19

Ranchi: कोरोना मरीजों का इलाज हो या उनके परिजनों की जांच की बात. इसमें अब रांची जिला प्रशासन की लापरवाही सामने आने लगी है. पहले पॉजिटिव मरीज के मिलते ही उसके परिजनों का भी सैंपल कलेक्ट किया जाता था. लेकिन अब सैंपल लेना तो दूर, उसके घर की बैरिकेडिंग तक नहीं की जा रही है. ऐसे में अगर संक्रमित के परिजन भी पॉजिटिव हुए और बाहर निकलेंगे तो खतरा बढ़ सकता है. लेकिन प्रशासन को इसकी फिक्र नहीं.

कुछ इस तरह की लापरवाही का मामला लोअर बर्द्धमान कंपाउंड के हनुमान नगर स्थित फ्रेंडस कॉलोनी में सामने आया है. स्थानीय निवासी अजय के अनुसार तीन दिन पहले इंसीडेंट कमांडर से जब परिजनों के सैंपल लेने की बात की तो उन्होंने कहा कलेक्शन लेने के लिए भेज रहे हैं. पर कोई नहीं आया.

मोहल्ले के लोगों ने पेश की मिसाल घर में पहुंचा रहे राशन और दूध

एक तरफ जहां कोरोना के कारण अपने भी साथ छोड़ दे रहे हैं ऐसे समय में मोहल्ले के लोगों ने मिसाल पेश की है. उन्होंने परिजनों को घर से निकलने से मना कर दिया है. इसके साथ ही उनके लिए राशन, सब्जी, दूध भी उपलब्ध करा रहे हैं.

40 परिवारों के पास न पीने के लिए पानी है, न खाने का सामान

सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के न्यू मधुकम, चौधरी धर्मशाला के पास 3 दिन पहले कोरोना संक्रमित मिलने के बाद जिला प्रशासन द्वारा बैरिकेडिंग लगाकर सबको होम क्वारेंटाइन कर दिया गया. लेकिन अब उनकी समस्या देखने वाला कोई व्यक्ति नहीं है. यहां रह रहे 40 परिवारों को न तो डायल 1950 के जरिए कोई मदद मिल पा रही है. यहां रहने वाले 40 परिवारों के पास न पीने के लिए पानी है, न खाना बनाने के लिए सिलेंडर और न सब्जी की व्यवस्था है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.