101 रुपये में 15 एकड़ सरकारी जमीन पर पतंजलि आचार्यकुलम का व्यवसायिक स्कूल

by

Ranchi: झारखंड की पिछली सरकार ने पतंजलि योगपीठ हरिद्वार के नाम सिर्फ 101 रुपये के टोकन मनी पर 15 एकड़ सरकारी जमीन 30 साल के लीज पर दिया था. लीज के शर्तों में कहा गया था कि जमीन पर आयुर्वेदिक कॉलेज खोला जाएगा. लेकिन अब इस सरकारी भूमि का व्यवसायिक उपयोग हो रहा है. जमीन पर पतंजलि योगपीठ द्वारा आचार्यकुलम नाम का स्कूाल संचालित हो रहा है. इसकी शिकायत सुनील कुमार महतो ने मुख्य सचिव को आवेदन लिखकर की है.
झारखंड सरकार के मुख्य सचिव को लिखे पत्र के साथ सूचना का अधिकार कानून के तहत कई दस्ताावेजों को संलग्न किया है.

सुनील महतो ने पत्र में कहा कि आयुर्वेदिक कॉलेज खोलने के लिए नामकुम अंचल के बरगांवा मौजा थाना संख्या 216 खाता नंबर 215 रकबा 9.45 एकड़ और खाता नंबर 221 खेसरा नंबर 148 रकबा 5.16 एकड़ कुल 15 एकड़ जमीन पतंजलि योगपीठ को 30 सालों के लीज पर दिया गया.

साथ ही पतंजलि योगपीठ को बुंडू अंचल के मौजा दामी खाता नंबर 101 प्लॉट नं 904, 907,39 और 126 कुल 62.62 एकड़ जमीन सेंटर फॉर रिसचर्स एंड कल्टीवेशन ऑफ मेडिसिनल एंड एरोमेटिक प्लांट की स्थापना के लिए लीज पर दिया गया.
सुनील कुमार महतो ने अपनी शिकायत में कहा है कि नामकुम के पतंजलि योगपीठ को दी गई जमीन पर आचार्यकुलम नाम से एक स्कूल का निर्माण कर व्यवसायिक रूप से संचालित किया जा रहा है. यह लीज के शर्तों का उल्लंघन है.

अर्जुन मुंडा के कार्यकाल में दी गई थी जमीन

साल 2006 के 4 अप्रैल को पतं‍जलि योगपीठ को झारखंड सरकार ने नामकुम की सरकारी जमीन इस शर्त पर दी थी कि इसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक कॉलेज के लिए होगा. कैबिनेट ने 15 एकड़ जमीन 101 रुपये में 30 साल के लिए देने के लिए मंजूरी दी थी. तब झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा थे.
जमीन लीज शर्तों में कहा गया है कि जिस उद्देश्य् से जमीन हस्तांतरित की जा रही है वह पूरा नहीं होता है तो जमीन स्वत: भूराजस्व एवं भूमि सुधार विभाग को वापस हो जाएगी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.