गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और बेहतर कॅरियर के लिए छत्तीसगढ़ का ओपी जिंदल विश्वविद्यालय बना छात्रों की पहली पसंद

by

Ranchi: वैश्विक महामारी कोविड -19 की वजह से वर्तमान  समय में जब कई शैक्षणिक संस्थान अपने शैक्षणिक कैलेण्डर से बहुत पीछे चल रहे हैं वही छत्तीसगढ़ के रायगढ़  में स्थित ओपी जिंदल विश्वविद्यालय में एकेडेमिक कैलेण्डर के अनुसार ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से कोर्स पूरा कर रहा है. साथ ही लगभग सभी परीक्षाएं ऑनलाइन संपन्न कराकर  उनके परिणाम भी घोषित कर दिए गए हैं.

विश्वविद्यालय के कुलपति  डॉ आर. डी. पाटीदार ने बताया की भारत के बड़े औद्योगिक समूहों मे से एक एवं  प्रतिष्ठित जिंदल समूह द्वारा विद्यार्थियों को विश्वस्तरीय एवं उपयोगी उच्च शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्यसे  छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में “छत्तीसगढ़ राज्य विधेयक एक्ट न. 13” द्वारा ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी की स्थापना 2014 मे की गयी. विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम UGC एवं AICTE  द्वारा मान्यता प्राप्त हैं. 

डॉ पाटीदार ने कहा की छत्तीसगढ़ के रायगढ़ मे देश के प्रतिष्ठित जिंदल समूह ने जब ओपी जिंदल विश्वविद्यालय की स्थापना की तब यह जरा भी आभास नहीं था की नयी सोच, विश्वस्तरीय पाठ्यक्रम,विश्वस्तरीय शिक्षक, आधुनिक शिक्षण पद्धति, स्टेट-ऑफ़-आर्ट बुनियादी ढांचे और परिसर के साथ आरंभ किये गए उसके इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और साइंस प्रोग्राम्स को देश के छात्रों एवं अभिभावकों द्वारा अभूतपूर्व सहयोग एवं सराहना मिलेगी.

ओपी जिंदल विश्वविद्यालय का उद्योगों के साथ मजबूत सम्बन्ध उद्योगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए समर्पित,  गुणवत्तापूर्ण टेक्नो –मैनेजमेंट एवं ‘इंडस्ट्री-रेडी’  वर्क फ़ोर्स  तैयार करने में अत्यधिक मदद प्रदान करता है. इस्पात एवं अन्य उद्योगों की जरूरतों को अच्छी तरह से पूरा करने के कारण आज यह विश्वविद्यालय देश का एक मात्र  इस्पात प्रौद्योगिकी और प्रबंधन विश्वविद्यालय के रूप में जाना जाता है.  

इस विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों (डिप्लोमा, बी.टेक., एम.टेक., एवं पीएचडी), मैनेजमेंट पाठ्यक्रमों (बीबीए, बी कॉम-ऑनर्स,  एमबीए एवं पीएचडी) एवं साइंस पाठ्यक्रमों (बीएससी-ऑनर्स, एमएससी एवं पीएचडी) के लिए छात्रों की प्रतिक्रिया ने यह साबित किया है की आज का युवा एक प्रोफेसनल युवा बनने के लिए पारंपरिक और पुरानी शिक्षण पद्धति को छोडकर, नयी एवं विश्वस्तरीय शिक्षा पाने के लिए अत्यधिक उत्साहित एवं बेताब है.

विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम एवं शुल्क के बारे मे पूंछे जाने पर डॉ पाटीदार ने बताया की विश्वविद्यालय का पाठ्यक्रम देश के प्रतिष्ठित संस्थानों के विषय-विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गया है, जो की वर्तमान एवं आने वाले समय में इंडस्ट्रीज की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाया  है. 

विदित हो की वैश्वीकरण के वर्तमान युग में विद्याथियों को विश्व स्तरीय शिक्षा  हांसिल करने के लिए निर्धारित विषय-पाठयक्रम के साथ-साथ अन्य बहुत सारी स्किल्स की भी आवश्यकता होती है. भारी प्रतिस्पर्धा के इस समय मे विद्यार्थियों को विश्वस्तरीय एवं उपयोगी उच्च शिक्षा प्रदान करने के लिए आवश्यक सभी स्किल्स की ट्रेनिंग छात्रों को दी जाती है. इतना ही नहीं विश्वविद्यालय द्वारा; चाहे फिर वह GATE की तैयारी हो, CA फाउंडेशन कोर्स की कोचिंग हो या फिर सिविल सर्विसेज एग्जाम की तैयारी के लिए आवश्यक कोचिंग या रिसोर्सेज उपलब्ध कराना हो, प्रदान किया जाता है. 

जहाँ तक शुल्क का सवाल है, विश्वविद्यालय का पाठ्यक्रम शुल्क भी भारत के निजी विश्वविद्यालयों के शुल्क के विपरीत बहुत सस्ता एवं वहन करने योग्य है. विश्वविद्यालय द्वारा एंट्री लेवल स्कालरशिप रु 75000/- तक मेरिट के आधार पर  प्रदान की जाती है.  विश्वविद्यालय न केवल योग्यता छात्रवृत्ति (मेरिट स्कालरशिप) छात्रो को प्रदान करता है बल्कि जरूरतमंद छात्रों के लिए भी छात्रवृत्ति  (मेरिट-कम-मीन्स स्कालरशिप) प्रदान करता है. इन सबके अलावा इसकी एक और अनूठी विशेषता है जिसमे पढ़ाई के साथ-साथ कमाकर अपना शिक्षा-ऋण जमा करने के इच्छुक कुछ छात्रों को विश्वविद्यालय परिसर में ही नौकरी के अवसर भी प्रदान किये जाते हैं.

विश्वविद्यालय की शिक्षण पद्धति के बारे में पूंछे गए प्रश्न के उत्तर में डॉ पाटीदार ने  कहा की दो दशक पहले, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के बीच यह सामान्य विचार था कि हमारा काम अच्छे अकादमिक रूप से सफल छात्रों का निर्माण करना है, लेकिन अब रोजगार और शिक्षा पर निवेश राशि की वापसी आदि के प्रति छात्र एवं अभिभावक सजग हैं. आज के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों को अधिक से अधिक प्रैक्टिकल एवं इक्स्पीरिऐंसिअल शिक्षण प्रणाली को अपनाने तथा छात्रों के प्लेसमेंट पर अधिक ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है, और ओपी जिंदल विश्वविद्यालय इन सभी बातों को सर्वोपरि रखकर कार्य कर रहा है. 

ओपीजेयू को सबसे अलग एवं विश्वस्तरीय बनाने के लिए पांच बातों- स्टेट-ऑफ़-आर्ट बुनियादी सुविधाएँ एवं आधुनिक उपकरणों से सुसज्जित प्रयोगशालाएं, देश के प्रतिष्ठित संस्थानों जैसे की आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी, आदि अन्य महत्वपूर्ण संस्थानों तथा वैश्विक स्तर के अनुभवी प्राध्यापकों का चयन एवं ‘स्टूडेंट सेंटर्ड-लर्न बाई डूइंग’ अर्थात एक्स्पिरिएन्सिअल लर्निंग की शिक्षण पद्धति अपनाने, अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों से सहयोग का करार करने तथा छात्रों को अच्छा प्लेसमेंट दिलाने पर विशेष ध्यान दिया गया है.

विश्वविद्यालय के प्लेसमेंट एवं छात्रों को किस तरह के प्लेसमेंट्स ऑफर होते हैं के प्रश्न के उत्तर में कुलपति महोदय ने कहा की छात्रों का अच्छा प्लेसमेंट भी ओपीजेयू का एक स्ट्रेंथ है. विश्वविद्यालय में कॅरियर डेवलपमेंट सेंटर की स्थापना की गयी है जिससे छात्रों को उद्योगों की आवश्यकताओं के अनुसार ट्रेनिंग प्रदान कर अच्छी कंपनियों में प्लेसमेंट दिलाया जा सके. अभी तक हमारे 85 % से अधिक छात्रों को प्लेसमेंट मिल चुका है और एवरेज पॅकेज रु 6 लाख प्रतिवर्ष है. हमारे छात्रों का प्लेसमेंट प्रमुखतः देश की प्रतिष्ठित एवं अग्रणी कंपनियों में,  विशेष रूप से JSPL (Raigarh, Angul, Patratu), JPL, Nalwa, SSD, JSW, JSW Energy, JSL और Jindal SAW आदि में हुआ है. 

कॅरियर डेवलपमेंट सेंटर के प्रयास से  लॉकडाउन के दौरान भी प्लेसमेंट जारी रहा और छात्रों के प्लेसमेंट BYJUS जैसी प्रतिष्ठित कंपनी में  भी कराये गए. हमारे यहाँ के बीटेक (कंप्यूटर साइंस एन्ड इंजीनियरिंग ) के छात्र सुजीत सोनी को अमेज़न द्वारा 32  लाख रूपये का पॅकेज ऑफर हुआ. हमारे विश्वविद्यालय द्वारा छात्रों को अच्छी इंटर्नशिप सुविधा भी उपलब्ध कराई जाती है और कई छात्रों का चयन इंटर्नशिप के दौरान ही हो जाता है.  छात्रों एवं अभिभावकों का विश्वास प्राप्त करने और सभी पाठ्यक्रमों में अच्छी संख्या में छात्रों के प्रवेश पंजीयन में इन्ही बातों की भूमिका महत्वपूर्ण है.

कार्यक्रम के अंत में सभी पत्रकार बंधुओं के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए डॉ पाटीदार ने प्रवेश के सम्बन्ध में बताया की  विश्वविद्यालय में प्रवेश ऑनलाइन एवं विश्वविद्यालय में उपस्थित होकर तो लिया ही जा सकता है, इसके अलावा हमने इस वर्ष से छात्रों की सुविधा को देखते हुए ‘स्पॉट एडमिशन’ की भी शुरुआत की है, जो की 19 अगस्त से आरम्भ हो जाएगा.  इसके माध्यम से छात्र अपने शहर में ही हमारे प्रतिनिधि मंडल के माध्यम से अपने पसंद के कोर्स में अपनी सीट बुक करा कर प्रवेश प्राप्त कर सकेंगे. 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.