Take a fresh look at your lifestyle.

लॉकडाउन 5.0 में हर दिन चलेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, IRCTC पर होगी टिकटों की ऑनलाइन बुकिंग

0 388

New Delhi: लॉकडाउन 4.0 इस महीने आखिर यानी 31 मई तक रहेगा. उसके बाद लॉकडाउन 5.0 शुरू हो जाएगा. लॉकडाउन 5.0 के दौरान भारतीय रेल आवागमन की सुविधाएं देने की तैयारी कर रहा है. इसे लेकर रेलवे ने आज 19 मई को खास ऐलान किया है. रेलवे अब नॉन-एसी ट्रेनें चलाने की तैयारी में है. 1 जून से देश में रोजाना नॉन-एसी टाइम टेबल वाली ट्रेनें चलेंगी. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह जानकारी दी है.

रेल मंत्री ने यह भी बताया है कि इन ट्रेनों की संख्या 200 होगी. 1 जून से चलने वाली इन Non-AC द्वितीय श्रेणी की ट्रेनों की बुकिंग ऑनलाइन उपलब्ध होगी. हर कोई नागरिक अब इन सेवाओं का लाभ उठा सकता है.

IRCTC पर होगी टिकटों की ऑनलाइन बुकिंग

फिलहाल रेलवे द्वारा देश भर में कई राज्यों में फंसे श्रमिकों को उनके गृहक्षेत्र में पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं. श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के अतिरिक्त भारतीय रेल 1 जून से प्रतिदिन 200 अतिरिक्त टाइम टेबल ट्रेनें चलाने जा रहा है जो कि गैर वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी की ट्रेन होंगी. इन ट्रेनों की बुकिंग IRCTC पर ऑनलाइन ही उपलब्ध होगी. ट्रेनों की सूचना शीघ्र ही उपलब्ध कराई जाएगी.

मिल सकेंगे वेटिंग लिस्ट के टिकट

इसका ऑपरेशन टाइम टेबल के हिसाब से होगा. बताया जाता है कि इन ट्रेनों में वेटिंग लिस्ट टिकट भी मिल सकते हैं, लेकिन तत्काल या प्रीमियम तत्काल जैसे व्यवस्था नहीं होगी. इन ट्रेनों की बुकिंग भी IRCTC की वेबसाइट के जरिए ही होगी. बुकिंग किस दिन से शुरू होगी इसकी घोषणा शीघ्र ही की जाएगी.

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या बढ़कर होगी 400

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह भी जानकारी दी कि अगले 2 दिनों में भारतीय रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या प्रति दिन 400 कर देगा. सभी प्रवासियों से अनुरोध है कि वे जहां रहें, भारतीय रेलवे अगले कुछ दिनों में उन्हें घर वापस ले आएगी. गोयल ने कहा कि, राज्य सरकारों से आग्रह है कि श्रमिकों की सहायता करे तथा उन्हें नजदीकी मेनलाइन स्टेशन के पास रजिस्टर कर, लिस्ट रेलवे को दे, जिससे रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाये.

श्रमिकों से आग्रह है कि वो अपने स्थान पर रहें, बहुत जल्द भारतीय रेल उन्हें गंतव्य तक पहुंचा देगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.