दिल्ली में बढ़ा एक सप्‍ताह का लॉकडाउन, बेकाबू होते महामारी के बीच केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

by

New Delhi: देश की राजधानी दिल्ली में सात का लॉकडाउन और बढ़ गया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसका एलान किया है. 

दिल्ली में छोटी अवधि के लिए लगाए लॉकडाउन के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के हालात चिंताजनक बने हुए हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार कुछ और दिन के लिए लॉकडाउन को विस्तार देने पर विचार कर रही है. 

मीडिया से सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा- लाॅकडाउन के दौरान हमने देखा कि पाॅजिटिविटी रेट लगभग 36-37% तक पहुंच गया, हमने दिल्ली में इतनी संक्रमण दर आज तक नहीं देखी. पिछले एक-दो दिन से संक्रमण दर थोड़ी कम हुई है और आज 30% के नीचे आई है.

उन्‍होंने कहा- दिल्ली में 700 टन ऑक्सीजन की जरूरत है, हमें केंद्र सरकार से 480 टन ऑक्सीजन आवंटित हुआ है और कल केंद्र सरकार ने 10 टन और आवंटित किया है, अब दिल्ली को 490 टन ऑक्सीजन आवंटित हुआ है. लेकिन अभी ये पूरा आवंटन भी दिल्ली में नहीं आ रहा है, कल 330-335 टन ऑक्सीजन दिल्ली पहुंची.

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री ने बताया- ऑक्सीजन के प्रबंधन के लिए हमने एक पोर्टल बनाया है. उत्पादक से लेकर अस्पताल तक सब को हर दो घंटे में अपनी ऑक्सीजन की स्थिति बतानी होगी. केंद्र सरकार से काफी सहयोग मिल रहा है, केंद्र और दिल्ली सरकार मिलकर काम कर रही हैं.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 19 अप्रैल को छह दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी जो सोमवार सुबह पांच बजे तक लागू होगा. संक्रमण की कड़ी को तोड़ने और स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने के लिए यह लॉकडाउन लागू किया गया था.

दिल्ली सरकार के एक सूत्र ने कहा, ‘छोटी अवधि के लॉकडाउन का मकसद मामलों की संख्या को काबू करने के साथ ही स्वास्थ्य ढांचे को मजबूती देने के लिए समय हासिल करना था. हालांकि, परिस्थितियां खराब से बदतर हो गई हैं. ऐसे हालात में एक और सप्ताह के लिए लॉकडाउन को विस्तार देना एक संभव विकल्प है.’

आपको बता दें कि राजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है. पांच दिनों में ही एक लाख से ज्यादा मामले आ चुके हैं. ऑक्सीजन की किल्लत भी बनी हुई है. इससे दिल्ली में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 10 लाख के आंकड़े को पार कर गई है. वहीं, सक्रिय मामले भी बढ़कर 93 हजार से ज्यादा हो चुके हैं. बढ़ते मामलों के साथ कंटेनमेंट जोन भी 24 हजार से ज्यादा हो गए हैं.

Categories Delhi

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.