Take a fresh look at your lifestyle.

नुसरत जहां मौलानाओं के निशाने पर

0

Saharanpur: तृणमूल कांग्रेस(TMC/टीएमसी) की सांसद व बंगाली फिल्मों की अभिनेत्री नुसरत जहां (nusrat jahan) इन दिनों मौलानाओं के निशाने पर हैं. सिंदूर लगाने और मंगलसूत्र पहनने को लेकर उलेमाओं के निशाने पर आईं नुसरत जहां अब भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में भाग लेने पर एक बार फिर चर्चाओं में हैं.

इस्कॉन द्वारा कोलकाता में जगन्नाथ रथयात्रा में विशेष आमंत्रण पर नुसरत ने अपने पति के साथ रथयात्रा में भाग लिया. इस पर फतवा ऑनलाइन के प्रभारी मुफ्ती अरशद फारूकी ने कहा कि मुसलमान किसी दूसरे धर्म की निशानी या गतिविधियों में भाग नहीं ले सकता है.

मजलिस इत्तेहाद-ए-मिल्लत के प्रदेशाध्यक्ष मुफ्ती अहमद गौड़ ने कहा, “नुसरत जहां अगर यह इकरार करें कि उन्होंने मुस्लिम धर्म छोड़ दिया है, तो फिर वह कुछ भी करने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन अगर वह मुसलमान हैं तो मुस्लिम धर्म के अनुसार जिंदगी गुजारें और इस्लाम मजहब के हिसाब से इबादत करें. यदि वह किसी दूसरी तरह से इबादत करती है, तो वह गुनहगार हैं.”

जमीयत दावतुल मुसलिमीन के संरक्षक मौलाना कारी इसहाक गोरा ने कहा कि शरीयत के अनुसार, इस्लाम में रहते हुए मुसलमान केवल अल्लाह की इबादत कर सकता है.

इससे पहले भी देवबंद के धर्मगुरुओं ने तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां के खिलाफ साड़ी, सिंदूर और मंगलसूत्र पहनकर संसद में शपथ लेने पर फतवा जारी किया गया था. देवबंद के धर्मगुरुओं का कहना था कि मुस्लिम लड़कियों को सिर्फ मुस्लिम लड़कों से ही निकाह करना चाहिए.

मुस्लिम धर्मगुरु असद वसमी ने कहा था, “जांच के बाद पता चला कि नुसरत ने जैन धर्म के युवक से शादी की है. इस्लाम कहता है कि मुस्लिम की शादी मुस्लिम से होनी चाहिए.”

गौरतलब है कि नुसरत (nusrat jahan) ने 19 जून को कारोबारी निखिल जैन से तुर्की में शादी की थी. वह पश्चिम बंगाल के बशीरहाट से सांसद हैं वह 3.5 लाख वोटों से जीती थीं.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More