सिंपलीलर्न के लर्नर्स की संख्या तीन वर्षों में दोगुनी बढ़कर 20 लाख हुई

by

Mumbai: सिंपलीलर्न, जो डिजिटल कौशल प्रशिक्षण में दुनिया में अग्रणी है, ने आज घोषणा की कि इसके प्‍लेटफॉर्म पर लर्नर्स की संख्‍या 20 लाख पार कर गई है. कंपनी ने वर्ष 2010 में परिचालन शुरू किया और वर्ष 2018 के शुरू में ही इसके लर्नर्स की संख्‍या 10 लाख हो गई थी और अब 3 वर्ष से भी कम समय में लर्नर्स की संख्‍या दोगुनी हो चुकी है. इस प्‍लेटफॉर्म पर हर महीने लगभग 70,000 लर्नर्स सक्रियतापूर्वक प्रशिक्षण प्राप्‍त करते हैं, जो कि किसी बड़ी यूनिवसिटी के कैंपस के बराबर है और लगभग इतनी ही संख्‍या में छात्र कैंपस में अध्‍ययन कर रहे हैं. महामारी के प्रकोप के बाद से लर्नर्स की संख्‍या तेजी से बढ़ी है. महामारी ने प्रोफेशनल्‍स के लिए यह अनिवार्य बना दिया है कि वो अपने कॅरियर्स में सफल होने के लिए ऑनलाइन कौशलोन्‍नयन एवं शिक्षण के लिए अपने समय का सर्वोत्तम तरीके से सदुपयोग करें.

सिंपलीलर्न के अत्‍यंत वैयक्तिपूर्ण शिक्षण, बूटकैंप-स्‍टाइल लर्निंग मॉडल, व्याहारिक प्रोजेक्‍ट्स, और दुनिया के प्रमुख विश्‍वविद्यालयों एवं कॉर्पोरेट्स के साथ साझेदारियों ने इसे दुनिया भर के लोगों एवं कॉर्पोरेशंस के लिए कौशलोन्‍नयन का पसंदीदा सहभागी बनाया है. सिंपलीलर्न के सर्टिफिकेशन कोर्सेज को माइक्रोसॉफ्ट, एडब्‍ल्‍यूएस, आईबीएम एवं फेसबुक जैसे इंडस्‍ट्री सहयोगियों के साथ तैयार किया गया है. वर्तमान में, सिंपलीलर्न, उच्‍च शिक्षा के अग्रणी संस्‍थानों जैसे कि परड्यु यूनिवर्सिटी, कैलटेक सेंटर फॉर टेक्‍नोलॉजी एंड मैनेजमेंट एजुकेशन, एवं यूमास एम्‍हर्स्‍ट के सहयोग से डेटा साइंस, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, डेवऑप्‍स, फुल स्‍टैक डेवलपमेंट, प्रोजेक्‍ट मैनेजमेंट एवं डिजिटल मार्केटिंग जैसे कौशलों में 15 पोस्‍ट ग्रैजुएट प्रोग्राम्‍स उपलब्‍ध कराती है.

Read Also  कोविड परिवेश में विज्ञान सह तकनीक के साथ मानव के बढ़ते कदम: डॉ चंद्रजीत

वर्ष 2020 में, सिंपलीलर्न ने ‘स्किलअप’ नामक एक नि:शुल्‍क कौशल विकास प्रोग्राम शुरू किया. इस प्रोग्राम के लिए 300 डिजिटल स्किल्‍स में 1000 घंटे से अधिक का सेल्‍फ-पेस्‍ड वीडियो लर्निंग उपलब्‍ध है, और इसके जरिए लर्नर्स शीर्ष पेशेवर एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में नि:शुल्‍क रूप से मांग वाले विषयों को जान सकते हैं और इस प्रकार, शिक्षा एवं कॅरियर से जुड़े सही निर्णय ले सकते हैं.

जहां अधिकांश लर्नर्स में व्‍यक्तिगत बी2सी लर्नर्स शामिल हैं, वहीं आज यह कंपनी 12 देशों की कंपनियों/संगठनों के लिए परिणामोन्‍मुखी कॉर्पोरेट प्रशिक्षण एवं कौशलोन्‍नयन प्रोग्राम्‍स उपलब्‍ध कराती है. सिंपलीलर्न इच्‍छुक अभ्‍यर्थियों को डिजिटल स्किल्‍स और आधुनिक प्रौद्योगिकियों में अल्‍पावधि और मास्‍टर प्रोग्राम्‍स दोनों ही उपलब्‍ध कराती है.

सिंपलीलर्न का ट्रेनिंग के लिए अपनाया गया बूटकैंप एप्रोच अपने लर्नर्स को न केवल वास्‍तविक कक्षा जैसा अनुभव प्रदान करने पर केंद्रित है, बल्कि आज के समय में सर्वाधिक मांग वाले कौशलों एवं टूल्‍स में प्रायोगिक प्रयोगशालाओं के जरिए नौकरी के लिए तैयार होने का अवसर प्रदान करने पर भी जोर देता है. सिंपलीलर्न के एआई-चालित लर्निंग प्‍लेटफॉर्म, ”एंगेजX” ने इसे संभव बनाया है, जो लर्नर्स को अधिक रोचक तरीके से कक्षाओं से जोड़ता है और उन्‍हें विशिष्‍ट शिक्षण अनुभव प्रदान करता है.

सिंपलीलर्न के संस्‍थापक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, कृष्ण कुमार ने बताया, ”वर्ष 2020 ने डिजिटल बदलाव की एक नयी लहर लायी, जिससे सफल कॅरियर एवं दीर्घकालिक रूप से प्रतिस्‍पर्द्धी बने रहने के लिए डिजिटल इकॉनमी स्किल्‍स सीखना बेहद जरूरी हो गया. भविष्‍य में आगे बढ़ने के अवसरों के लिए अपस्किलिंग एवं रीस्किलिंग महत्‍वपूर्ण हो गया है और इसके चलते छात्रों और पेशेवरों दोनों के बीच ऑनलाइन लर्निंग की लोकप्रियता बढ़ी है. महमारी काल में वर्क-फ्रॉम-होम की कार्य संस्कृति पैदा होने और महामारी के बाद रोजगार क्षेत्र की अनिश्चितताओं ने अधिकांश प्रोफेशनल्‍स को स्‍व-विकास में निवेश करने के लिए प्रेरित किया. दरअसल, लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में हमने एनरोलमेंट्स में 60 प्रतिशत उछाल देखा. पिछले 6 महीने में, 12 देशों के 50,000 से अधिक कॉर्पोरेट लर्नर्स भी हमारे प्‍लेटफॉर्म से जुड़े. अनेक भारतीय स्‍टार्ट-अप्‍स और प्रमुख विश्‍वविद्यालयों ने विशिष्‍ट प्रौद्योगिकीय कौशल विकास प्रोग्राम्‍स के लिए हमारे साथ साझेदारी की.”

Read Also  फेसबुक और यूट्यूब के जरिये सरकारी स्कूल के बच्चे कर रहे पढ़ाई

सिंपलीलर्न, अपने प्‍लेटफॉर्म पर हर महीने 1,500 से अधिक लाइव कक्षाएं चलाता है और लर्नर्स द्वारा इन कक्षाओं में 500,000 घंटे से अधिक का समय दिया जाता है. सिंपलीलर्न द्वारा उपलब्‍ध कराया जाने वाला यह प्रोग्राम, लर्नर्स को उनके कौशलोन्‍नयन और बिग डेटा, डेटा साईंस एवं बिजनेस इंटेलिजेंस, एआई एंड मशीन लर्निंग, डिजिटल मार्केटिंग, साइबर सिक्‍योरिटी, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, एवं प्रोजेक्‍ट मैनेजमेंट जैसे लोकप्रिय क्षेत्रों में प्रमाण-पत्र हासिल करने का अवसर प्रदान करता है. कंपनी द्वारा स्किलअप नामक एक नि:शुल्‍क लर्निंग प्‍लेटफॉर्म भी उपलब्‍ध कराया जाता है, ताकि लोगों को आज के प्रतिस्‍पर्द्धी कार्य परिवेश में सफलता के लिए अपनी शुरुआत करने और अपनी योजना बनाने में मदद मिल सके. इसके जरिए, दुनिया भर के लर्नर्स के लिए 1,000 से अधिक घंटे के लर्निंग एवं टेक स्किलिंग प्रोग्राम्‍स नि:शुल्‍क उपलब्‍ध हैं, जो मांग वाले 300 से अधिक कौशलों के लिए हैं.

Read Also  कोविड परिवेश में विज्ञान सह तकनीक के साथ मानव के बढ़ते कदम: डॉ चंद्रजीत

सिंपलीलर्न के विषय में

सिंपलीलर्न, डिजिटल अर्थव्यवस्था कौशल प्रशिक्षण के लिए दुनिया का #1 ऑनलाइन बूटकैम्प है जो लोगों को डिजिटल अर्थव्यवस्था में आगे बढ़ने के लिए आवश्यक कौशल हासिल करने में मदद करता है. सिंपलीलर्न, डेटा साइंस, एआई और मशीन लर्निंग, क्लाउड कंप्यूटिंग, साइबर सिक्योरिटी, डिजिटल मार्केटिंग, देवऑप्स, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट और अन्य महत्वपूर्ण डिजिटल विषयों में प्रौद्योगिकियों और एप्लिकेशंस के लिए परिणाम-आधारित ऑनलाइन प्रशिक्षण प्रदान करती है. व्यक्तिगत पाठ्यक्रमों, व्यापक प्रमाणन कार्यक्रमों और विश्व-प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों के साथ भागीदारी के माध्यम से, सिंपलीलर्न लाखों पेशेवरों और हजारों कॉर्पोरेट प्रशिक्षण संगठनों को कार्य के लिए तैयार कौशल प्रदान करता है जिन्हें अपने करियर में उत्कृष्टता प्राप्त करने की आवश्यकता होती है. सैन फ्रांसिस्को, सीए, और बैंगलोर, भारत में स्थित, सिंपलीलर्न ने 150 से अधिक देशों में 2,000,000 से अधिक पेशेवरों और 2,000 कंपनियों को प्रशिक्षित करने, प्रमाणपत्र हासिल करने और अपने व्यवसाय और कैरियर के लक्ष्यों तक पहुंचने में मदद की है. हर महीने 1500 से अधिक लाइव क्लासेस, रियल वर्ल्‍ड प्रोजेक्‍ट्स, और अन्‍य के साथ, पेशेवर, सिंपलीलर्न में प्रायोगिक तरीके से सीखते हैं. कंपनी को प्राप्‍त सम्‍मानों में एडटेक में नवाचार के लिए 2020 एजिस ग्राहम बेल अवार्ड, ग्राहक सेवा सफलता के लिए 2020 स्टेवी®️ गोल्ड अवार्ड और 2020 के लिए शीर्ष आईटी प्रशिक्षण कंपनियों में से एक के रूप में प्रतिष्ठित ट्रेनिंग इंडस्‍ट्री इंक द्वारा प्रदत्‍त सम्‍मान शामिल हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.