आरक्षण पर नितिन गडकरी का बयान ‘नौकरी ही नहीं तो आरक्षण लेकर करोगे क्या’

by

#Mumbai: शनिवार को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में भारत सरकार के मंत्री नितिन गडकरी ने आरक्षण पर एक बड़ा ब्यान दिया. एक कार्यक्रम में पत्रकारों के आरक्षण के सवाल पर कहा कि आरक्षण भी नौकरी की गारंटी नहीं देगा क्योंकि देश में सरकारी भर्तियां बंद हैं. बैंक क्षेत्र में आईटी की वजह से नौकरियां कम हो रही हैं. नौकरियां हैं कहां ?

खत्म हो जाति आधार पर आरक्षण

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा यह बात सच है कि गरीब की कोई जाति, भाषा और क्षेत्र नहीं होता है इसलिए आरक्षण जाति के आधार पर नहीं, बल्कि गरीबी के आधार पर मिले तो बेहतर होगा.

Read Also  आदिवासी छात्रों को सीएम हेमंत सोरेन ने दिए ब्‍लैंक चेक! सोशल मीडिया पर चर्चा गर्म

उन्होंने कहा कि एक सोच कहती है कि गरीब, गरीब होता है, गरीब की कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती. उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम या हिंदू, सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है. आगे गडकरी ने कहा कि नीति निर्माता हर समुदाय के गरीबों पर विचार करें. गडकरी महाराष्ट्र में आरक्षण के लिए मराठों के वर्तमान आंदोलन तथा अन्य समुदायों द्वारा इस तरह की मांग से जुड़े सवालों का जवाब दे रहे थे.

महाराष्ट्र में नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण की मांग

मराठा समाज ने पिछले कई दिनों तक महाराष्ट्र में नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में 16 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन किया. औरंगाबाद, पुणे, नासिक और नवी मुंबई में हिंसक आंदोलन भी हुए. आंदोलनकारियों द्वारा दर्जनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया.

Read Also  Weather Update: भारत के इन राज्‍यों में आज भी होगी बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

ज्ञात हो कि आरक्षण की मांग को लेकर अबतक कम से कम सात लोग कथित तौर पर खुदकुशी भी कर चुके हैं. हालांकि, अब मराठा समाज आरक्षण आंदोलन को वापस लेने की बात कह रहा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.