Take a fresh look at your lifestyle.

न कोई भूखा रहेगा और न बेसहारा, गूंज परिवार ने सिल्‍ली में शुरू की दो योजनाएं

0

Ranchi:  झारखंड के ढाई पंचायत का कोई भी परिवार अब भूखा नहीं सोयेगा और न ही कोई बुजुर्ग या विधवा खुद को बेसहारा महसूस करेगा. सिल्‍ली प्रखंड के बंसिया, बसतपुर और दोआड़ू पंचायत के का हिस्‍सा के लोगों के लिए गूंज परिवार की ओर से खास योजना का शुभारंभ किया गया है. बिरसा आहार योजना के तहत वैसे बीपीएल परिवारों को चिन्‍हित कर हर महीने अनाज मुहैया कराया जा रहा है, जिन्‍हें किसी वजह से सरकारी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है. गूंज परिवार के संरक्षक सुदेश कुमार महतो ने बताया कि इस इन योजनाओं को शुरू करने से पहले जरूरतमंदों की पहचान के लिए व्‍यापक तैयारी की गई.

बिरसा आहार और मातृ-‍पितृ सेवा योजना से गूंज परिवार ने फिलहाल 150 परिवारों को फिलहाल जोड़ा है. कहा जा रहा है कि सरकारी व्यवस्था और योजना से जुड़ जाने तक असहाय परिवारों को मातृ-पितृ तथा बिरसा आहार योजना का लाभ मिलता रहेगा. 

आहार योजना के तहत परिवार के एक सदस्य को 11 किलो चावल और एक से अधिक सदस्य रहने पर 25 किलो चावल दिया जा रहा है. जबकि मातृ-पितृ योजना के तहत लाचार और बेबस परिवार को छह सौ रुपए महीने दिए जाएंगे. यह योजना भी सरकार के सामाजिक सुरक्षा योजना से जुड़ जाने तक जारी रहेगी. 

सुदेश कुमार महतो ने बदालू में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सभा को संबोधित करते हुए कहा कि गूंज परिवार ने बड़ी जिम्मेदारी ली है. और यह काम भले ही कठिन है, पर नामुमकिन नहीं है. उन्होंने कहा कि नाम के अनुरूप ये दोनों योजनाएं जरूरतमंदों की मददगार साबित होंगी.

योजनाओं के शुरू होने के लिए उन्होंने महिला समितियों, और पंचायत के प्रतिनिधियों का आभार प्रकट किया. पेंशन पाने वाले दोआडू पंचायत के कृष्‍णा महतो ने खुशी जाहिर करते हुए बताया कि उम्र के आखिरी पड़ाव में अपनी जरूरत की चीजों को पूरा करने के लिए बच्‍चों पर निर्भर नहीं रहना पड़़ेगा. बी नावाडीह के बलराम महतो ने कहा कि ये अच्‍छी बात है कि गूंज परिवार की ओर से क्षेत्र में लोगों की जरूरत पूरा करने के लिए पेंशन और अनाज देने की योजना शुरू की गई है.

पूर्व उपमुख्यमंत्री ने खुद चावल की बोरियां उठाकर जरूरमंदों के बीच बांटे.

इस दौरान सुदेश कुमार महतो ने अपनी जनसंवाद यात्रा की चर्चा की. और कहा कि खेती के बाद फिर उसे आगे बढ़ाएंगे. समस्याओं के समाधान और संवाद का वह यात्रा बेहद सशक्त जरिया बना है. सिल्ली विधानसभा क्षेत्र में हर वर्ग के लोग जन संवाद यात्रा से जुड़े हैं. उन्होंने कहा कि पांच जून को उन्होंने जनसंवाद यात्रा की शुरुआत की थी. अब तक 106 गांव जा चुके हैं. और अगले एक महीने में इस अभियान को पूरा करना है. 

उन्होंने कहा , ”हम जहां भी जा रहे हैं उसमें एक बात प्रमुखता से सामने आ रही है कि हाल के कुछ वर्षों में सिल्ली विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने कठिन परिस्थितियों का सामना किया है. गांवों के आगे बढ़ने की जो राहें खोली गई थी, महिला, युवा सशक्तिकरण का जो ढांचा तैयार किया गया था, प्रबुद्धजन के लिए जो मंच तैयार किए गए थे, वे असहज और दूरियां महसूस करने लगे  हैं. लेकिन उन्हें भरोसा है कि ये हालात जल्दी बदलेंगे. उन्होंने जोर देकर कहा कि हम अगर डिगे नहीं हैं, तो वह सिल्ली विधानसभा क्षेत्र की जनता का विश्वास और साथ के चलते  हर एक समस्या को वे करीब से देख-समझ रहे हैं. सभी को मिलकर इसे दूर करना है”.  

कार्यक्रम में जिप अध्यक्ष सुकरा मुंडा, राहे जिप सदस्य रजिया खातुन बीणा देवी जयपाल सिंह सुनिल सिंह संजय सिद्धार्थ, सुशील महतो राहे प्रखंड अध्यक्ष रंगबहादुर महतो बालेन्दु महतो मनोज मेहता प्रमोद सिंह रामापति मुंडा सावित्री देवी प्रताप सिंह मुंडा विजय मुंडा आदि उपस्थित थे. मौके पर 182 महिला समिति के बीच कुर्सी ओर दरी तथा चार महिला समितियों को पत्तल बनाने की मशीन दी गई. 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More