माइकल जैक्सन की मौत क्‍यों आज भी है रहस्‍य

by

साल 2009 में माइकल जैक्सन की मौत की खबर जब आई, तो पूरी दुनिया में अचानक से शोक की लहर फैल गई थी.. किसी को अंदाज़ा भी नहीं था कि ‘किंग ऑफ़ पॉप’ यूं अचानक इस दुनिया को अलविदा कह कर चले जाएंगे. वो 50 साल के थे और जिस रात उनकी मौत हुई वो एक कॉन्सर्ट में परफॉर्म करने की तैयारी कर रहे थे.

उनसे आखिरी दिन मिलने वाले लोग बताते हैं कि वो कमाल के मूड में थे और कहीं से भी बीमार नहीं लग रहे थे. वो एक कॉन्सर्ट में परफॉर्म करने वाले थे और इसके लिए उन्होंने देर रात तक रिहर्सल की थी. लेकिन जब अगली सुबह वो अपने कमरे से बाहर नहीं आए तो माइकल के डॉक्टर कोनराड मरे उन्हें देखने गए जहां उन्हें जैक्सन बेहद गंभीर हालत में मिले.

डॉक्टर कोनराड माइकल जैक्सन के पर्सनल डॉक्टर थे और इस केस में उनकी भूमिका हमेशा संदिग्ध रही है. हालांकि इस केस में उन्हें बरी किया गया लेकिन माइकल को आखिरी बार जीवित देखने वाले कोनराड पर माइकल के फैन्स को भरोसा नहीं है.

माइकल जैक्‍सल की मौत की कहानी

माइकल जिस सुबह मृत पाए गए उन्हें सबसे पहले ढूंढने वाले कोनराड का कहना था कि उन्होंने माइकल को सीपीआर देने की कोशिश की थी. कोनराड के अनुसार वो पुलिस को नहीं बुला पाए क्योंकि माइकल के कमरे में फोन नहीं था और उन्हें उस होटल का अड्रेस भी ठीक से नहीं पता था जहां माईकल ठहरे थे.

पूरी दुनिया में अचानक से शोक की लहर फैल गई थी, जब साल 2009 में माइकल जैक्सन के निधन की खबर आई. किसी को अंदाज़ा भी नहीं था कि ‘किंग ऑफ़ पॉप’ यूं अचानक इस दुनिया को अलविदा कह कर चले जाएंगे. वो 50 साल के थे और जिस रात उनकी मौत हुई वो एक कॉन्सर्ट में परफॉर्म करने की तैयारी कर रहे थे.

उनसे आखिरी दिन मिलने वाले लोग बताते हैं कि वो कमाल के मूड में थे और कहीं से भी बीमार नहीं लग रहे थे. वो एक कॉन्सर्ट में परफॉर्म करने वाले थे और इसके लिए उन्होंने देर रात तक रिहर्सल की थी. लेकिन जब अगली सुबह वो अपने कमरे से बाहर नहीं आए तो माइकल के डॉक्टर कोनराड मरे उन्हें देखने गए जहां उन्हें जैक्सन बेहद गंभीर हालत में मिले.

डॉक्टर कोनराड माइकल जैक्सन के पर्सनल डॉक्टर थे और इस केस में उनकी भूमिका हमेशा संदिग्ध रही है. हालांकि इस केस में उन्हें बरी किया गया लेकिन माइकल को आखिरी बार जीवित देखने वाले कोनराड पर माइकल के फैन्स को भरोसा नहीं है.

माइकल जिस सुबह मृत पाए गए उन्हें सबसे पहले ढूंढने वाले कोनराड का कहना था कि उन्होंने माइकल को सीपीआर देने की कोशिश की थी. कोनराड के अनुसार वो पुलिस को नहीं बुला पाए क्योंकि माइकल के कमरे में फोन नहीं था और उन्हें उस होटल का अड्रेस भी ठीक से नहीं पता था जहां माईकल ठहरे थे.

1 thought on “माइकल जैक्सन की मौत क्‍यों आज भी है रहस्‍य”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.