समझिए रिलेशनशिप बिहेवियर, पता चल जाएगा प्‍यार है या तकरार

by

किसी भी रिलेशनशिप (relationship) की नींव भरोसा, ईमानदारी प्यार होता है. अगर एक रिलेशन में ये तीनों ही नहीं रहते तो समझिए वो रिलेशन ही नहीं रहता. लेकिन, अगर एक बार भरोसा टूटने लगे तो समझिए रिश्ता भी खराब होने लगता है. 

ऐसा ज्यादातर इसलिए होता है. जब कपल्स इन कड़वी सच्चाई को अपना नहीं पाते. आज यहां हम आपको कुछ ऐसी ही सच्चाई से रूबरू करवाएंगे, जिसे जानने के बाद शायद आप इस पर विश्वास करने लगें.

अक्सर रिलेशनशिप्स एक दूसरे को टाइम ना देने के कारण टूटते हैं. क्योंकि एक रिलेशनशिप में प्यार के साथ साथ वक्त भी बेहद जरूरी होता है.

अगर आप एक दूसरे को वक्त नहीं देंगे. तो आपके रिश्तों में दरारे आनी शुरू हो जाएंगी. भले ही आप पूरे दिन कितना ही अपने काम में बिजी रहें. लेकिन, अपने पार्टनर को वक्त देना ना भूलें. क्योंकि जितना जरूरी आपका काम है. उतना ही जरूरी आपके पार्टनर के लिए आपका वक्त है. यही मेन रीजन बनता है आपका रिलेशन खराब कमजोर होने का.

शादी के बाद एक कपल के बीच सब कुछ बदल जाता है. घर की बच्चों की पेरेंट्स की जिम्मेदारियां आ जाती है. ये सभी जिम्मेदारियां एक महिला पर ही होती है. ज्यादातर घरों में लेडीज को ही घर का सारा काम करना पड़ता है.

वहीं अगर वर्किंग लेडीज की बात की जाए तो उनके लिए घर बाहर का काम कर पाना काफी मुश्किल हो जाता है. ऐसे में वह काफी चिड़चिड़ी होने लगती हैं. ऐसे में जरूरी है कि दोनों पति-पत्नी घर का काम मिलकर करें. ताकि किसी एक पर काम का ज्यादा बोझ ना आ पड़े.

आप आपका पार्टनर भले ही एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हो लेकिन अगर आप एक दूसरे को स्पेस नहीं देते हैं. तो आप दोनों का हमेशा इस रिश्ते में खुश बने रहना पोसिबल नहीं है. अगर आपका पार्टनर आपके कपड़ों से लेकर आपके ऑफिस तक में दखल देता रहता है. तो छोटी-छोटी बातों को लेकर आप दोनों में रोजाना झगड़ा होना भी पोसिबल है. जिसके बाद आपके रिलेशनशिप में दुखों की बरसात होनी शुरू हो जाती है.

शादी से पहले जहां आपका पार्टनर आपको मोटिवेट करते हुए नजर आता था. वहीं शादी के बाद कई रिश्तों में इसी बात को लेकर तकरार शुरू हो जाती है. शादी के बाद बढ़ती जिम्मेदारियों को देखते हुए आपका पार्टनर आपसे ऑफिस परिवार के बीच एडजस्टमेंट बिठाने की उम्मीद करने लगता है. परिवार ऑफिस दोनों की जिम्मेदारियां साथ मिलकर संभालें. साथ ही एक दूसरे का हर कदम पर साथ दें ताकि अगर कोई एक वीक पड़ जाए तो दूसरा उसे संभाल ले.

रिलेशनशिप में रहते हुए भी लड़का-लड़की किसी से भी अट्रैक्ट हो सकते हैं. एक रिलेशन में कितना भी प्यार हो लेकिन एक मोड़ पर दोनों में से किसी को भी किसी ओर से अट्रैक्शन हो सकता है. जो कि गलत है. रिलेशनशिप का मतलब अपने पार्टनर को धोखा देना नहीं होता. बल्कि हर कदम पर साथ निभाना होता है. इसी कारण से आपके पार्टनर को इनसिक्योरिटी महसूस होने लगती है रिलेशनशिप टूटने की नौबत आ जाती है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.