Take a fresh look at your lifestyle.

सन फार्मास्युटिकल को एक ईमेल से हुआ 10 हजार करोड़ का नुकसान

0 8

Mumbai: महज एक ई-मेल से अरबपति दिलीप सांघवी (Dilip Shanghvi) को तगड़ा झटका लगा है. दरअसल एक व्हिशलब्लोअर ने सेबी को भेजे ईमेल के माध्यम से सन फार्मास्युटिकल (Sun Pharma) इंडस्ट्रीज के फाउंडर-मैनेजिंग डायरेक्टर दिलीप सांघवी पर और उनके ब्रदर-इन-लॉ सुधीर वालिया पर धर्मेश दोशी के साथ वित्तीय अनियमितता में लिप्त होने का आरोप लगाया है. इस खबर से सोमवार को सन फार्मा को शेयर लगभग 10 फीसदी तक टूट गया और उसकी मार्केट वैल्यू लगभग 10 हजार करोड़ रुपए घट गई.

150 पेज का लेटर भेजकर की शिकायत

व्हिशलब्लोअर ने मार्केट रेग्युलेटर सेबी को भेजे 150 पेज के लेटर में कई आरोप लगाए. सेबी ने 2001 में शेयर बाजार में हुए स्कैम  के बाद धर्मेंद्र दोशी और केतन पारेख को मार्केट से बैन कर दिया था. दोशी, पारेख के पुराने सहयोगी हैं. हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स में व्हिशलब्लोअर की सत्यता की पुष्टि नहीं की गई है. एक वेबसाइट मनीलाइफ ने सेबी को भेजी गई इस शिकायत को शनिवार को पब्लिश किया था.

केतन पारेख स्कैम में आया था धर्मेश दोशी का नाम

शिकायत के मुताबिक, वर्ष 2002-07 के दौरान सन फार्मा ने फॉरेन करंसी कन्वर्टिबल बॉन्ड्स (FCCB) के कई बड़े राउंड्स में भारी अनियमितताएं की थीं, जिनका प्रबंधन जेरमिन कैपिटल एलएलसी ने किया था.

केतन पारेख स्कैम पर वर्ष 2001 में सेबी द्वारा दिए गए आदेश के मुताबिक, ‘इस स्कैम में जेरमिन कैपिटल एलएलसी, जेरमिन कैपिटल पार्टनर्स और धर्मेश दोशी/केतन पारेख के बीच संबंध सामने आए हैं.’

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.