लॉकडाउन-4 में कुछ जगहों पर प्लेन और बस सेवा शुरू होने के संकेत

New Delhi : कोरोना महामारी के चलते देश में 18 मई से लॉकडाउन-4 की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. माना जा रहा है कि इस बार पिछले लॉकडाउन की तुलना में कुछ ज्यादा ढील दी जा सकती है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी कहा है कि लॉकडाउन 4.0 में पब्लिक ट्रांसपोर्ट में ढील देने पर मंथन चल रहा है. इसके अंतर्गत जमीन और वायु मार्ग के का ट्रांसपोर्ट भी शामिल है.

वहीं किन राज्यों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट की किस तरह की अनुमति होगी ये राज्यों से मिले ब्लूप्रिंट के आधार तय किया जायेगा. लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइन बनाने के काम में जुटे अधिकारियों ने कहा है कि परिस्थितियों को देखते हुए ट्रांसपोर्ट में ढील दी जाएगी.

Read Also  रांची में हनुमान मंदिर घुसकर मूर्ति तोड़ी, पुलिस ने बिना जांचे आरोपी रमीज को बताया विक्षिप्‍त

वहीं यह जानकारी भी मिल रही है कि राज्यों में हॉट स्पॉट तय करने का अधिकार अब राज्यों को मिल सकता है. जैसा कि राज्य लगातार केन्द्र से इसकी मांग कर रहे थे. पिछले मीटिंग में राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने पीएम मोदी से कुछ इस तरह की मांग रखी थी. आपको बतादे पीएम मोदी ने पहले ही कह रखा है कि इस बार का लॉकडाउन पिछले बार से अलग होगा.

वहीं सूत्रों का ये भी कहना है कि जिलों को रंगों के आधार पर जोन में बांटने की प्रक्रिया जारी रहेगी. लेकिन अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये वर्क प्लेस, फैक्ट्रियों, व्यापार आदि को चलाने की अनुमति मिल सकती है.

Read Also  36th national games 2022 उद्घाटन समारोह में पीएम के सामने बिना ब्‍लेजर मार्च पास्‍ट करेगी झारखंड टीम

वहीं सूत्रों के मुताबिकों लॉकडाउन 4 में मेट्रो और रेल सेवा को सीमित स्तर पर शुरू किया जा सकता है. इसके साथ ही दिल्ली मेट्रो को चलाने की तैयारी पूरी कर ली गयी है. मेटों में यात्रियों को स्क्रीनिंग के बाद ही यात्रा की अनुमति होगी.

फिलहाल देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 80 हजार पहुंच चुकी है, वहीं मौतों का आंकड़ा भी ढाई हजार हो गया है. ऐसे में लॉकडाउन- को लागू किये जाने को लेकर कुछ लोगों की प्रतिक्रिया यह कि पीएम मोदी ने सहीं फैसला लिया है. ज्यादर लोगों की फिलहाल यही राय है कि लॉकडाउन को दो हफ्ते के लिये बढ़ा दिया जाना चाहिये.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.