लॉयन एयरलाइंस  ब्‍लैक बॉक्‍स की जांच से सामने आया हादसे का सच, विमान हादसे में 189 लोगों की हुई थी मौत

by

Jakarta: इंडोनेशिया में लॉयन एयरलाइंस का विमान सेंसर की खराबी की वजह से क्रैश हुआ था. ब्लैक बॉक्स के डेटा से तैयार की गई रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. पायलटों ने विमान को नियंत्रित करने की काफी कोशिश की थी क्योंकि विमान की स्वचालित सुरक्षा प्रणाली उसे लगातार नीचे ले जा रही थी. विमान के ब्लैक बॉक्स डाटा से यह बात सामने आई है. इंडोनेशिया के अधिकारियों ने पिछले माह हुई दुर्घटना की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. इसके मुताबिक, विमान में लगा ऑटोमेटिक सेफ्टी सिस्टम इसके अगले हिस्से को बार-बार नीचे दबा रहा था, पायलट आखिरी वक्त तक इसे काबू करने की कोशिश करते रहे.

जांचकर्ता पता लगा रहे हैं कि कहीं सेंसर बोइंग 737 मैक्स 8 विमान के अगले हिस्से के नीचे झुकने की गलत सूचना तो नहीं दे रहे थे. यह विमान 29 अक्टूबर को जावा के समुद्र के ऊपर क्रैश हो गया था. इसमें भारतीय पायलट भव्य सुनेजा समेत 189 लोगों की मौत हो गई थी.

उड़ान भरने के केवल 13 मिनट बाद हुआ था हादसा

बता दें कि इंडोनेशिया की लॉयन एयर का बोइंग-737 मैक्स-8 विमान 29 अक्तूबर को 188 यात्रियों और 8 क्रू सदस्यों के साथ जकार्ता के सोकार्णो हाता इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान भरने के महज 13 मिनट बाद तकनीकी खराबी के चलते जावा द्वीप के करीब समुद्र में गिर गया था.

इस हादसे में विमान में सवार सभी लोगों की मौत हो गई थी. जांच में सामने आया था कि क्रैश से पहले पायलटों ने तकनीकी खराबी बताते हुए एयरपोर्ट पर वापस लौटने की अनुमति मांगी थी. लेकिन इसके बाद उनका संपर्क टूट गया था और विमान क्रैश हो गया था. संपर्क टूटने के समय विमान करीब 5000 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.