आम बजट 2021: झारखंड में सत्ताधारी दलों के नेताओं ने की आलोचना, विपक्ष ने सराहा

by

Ranchi: देश के वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना काल के बाद आम बजट 2021 पेश कर दिया है. इस पर जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने देश के पहले डिजिटल बजट के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण को बधाई दी है. श्री मुंडा ने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह बजट अबतक का सर्वश्रेष्ठ बजट है, जिसमें कि सभी क्षेत्रों के गुणात्मक विकास को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है. यह बजट ऐसी परिस्थितियों में तैयार किया गया है,जो पूर्व में कभी नहीं थी, 2020 में हमने कोविड-19 के साथ क्या-क्या सहन किया उसका कोई उदाहरण नहीं है. बजट में आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्यों की प्राप्ति के साथ-साथ गांवों तक सबको बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिले इसके लिए भी कारगर प्रयास किये गये हैं.

Read Also  Cyclone Tauktae गुजरात में मचा सकता है भारी तबाही, गृह मंत्रालय ने जारी किया एडवाइजरी

इधर इस महत्‍वपूर्ण बजट के झारखंड में विपक्षी पार्टी ने नेता सराहना कर रहे हैं, वहीं सत्‍ताधारी दलों के नेता आम बजट की आलोचना कर रहे हैं.

रघुवर दास बोले बजट से झारखंड को विशेष लाभ

झारखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने ट्वीट करके केंद्रीय बजट 2021 की सराहना की है. उन्‍होंने कहा है कि बजट में सोननगर-गो पूर्वी डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के निर्माण की घोषण की गई है. इससे झारखंड को विशेष तौर पर लाभ होगा. झारखंड के कई जिले देश के विभिन्‍न क्षेत्रों से रेल के माध्‍यम से सीधे जुड़ेंगे, जिसका सीधा लाभ यहां के लोगों को होगा.

सरयू रॉय बोले कठिन परिस्थिति में तैयार किया गया संतुलित बजट

केन्द्रीय बजट कठिन परिस्थिति में एक संतुलित बजट है,इसका लाभ मध्य वर्ग और ग्रामीण क्षेत्र तक पहुँचेगा.अधोसंरचनाओं में बढे सरकारी निवेश से अर्थव्यवस्था गतिशील होगी,पटरी पर आयेगी.लघु एवं मध्यम उद्योगों को लाभ होगा. करों में राज्यों का हिस्सा बढ़ा है. 9.5% राजकोषीय घाटा चिंताजनक है.

संजीव विजयवर्गीय ने घोषणाओं का स्‍वागत किया.

रांची के डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने वरिष्ठ नागरिकों  75 वर्ष के ऊपर को कर में छूट और स्टार्ट एप्स में प्रोत्साहन राशि दिए जाने सहित कुछ अन्य घोषणाओं का स्वागत किया है.

Read Also  कोरोना संकट के बीच देश छोड़कर विदेश में बसने की तैयारी में बड़े उद्योगपति और अमीर

आम बजट  की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि यह बजट आत्मनिर्भर भारत के लिए है. इससे अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी. इस बजट से भारत के अवसंरचना, कृषि और स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत मजबूती मिलेगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से एक रूपरेखा प्रस्तुत की है.

सत्‍ताधारी दलों के नेताओं ने की आलोचना

झारखंड में प्रमुख सत्‍ताधारी पार्टी झामुमो ने आम बजट पर प्रेस बयान जारी कर आलोचना की है. प्रेस बयान में सुप्रीयो भट्टाचार्य ने कहा है कि भारत सरकार द्वारा देश के समक्ष वित्त वर्ष 2021-22 पुरे देश के 135 करोड़ जनता के अरमानों पर पानी फेर कर आसन्न पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव में राजनैतिक लाभ लेने के लिए पेश किया गया, जो न केवल निंदनीय है वरण भाजपा के संकिर्ण राजनैतिक एवं सत्ता लोलुपता को प्रदर्शित करता है.

Read Also  कोरोना संकट के बीच देश छोड़कर विदेश में बसने की तैयारी में बड़े उद्योगपति और अमीर

उन्‍होंने कहा कि पश्चिम बंगाल, असाम, तमिलनाडू, केरल एवं पुदुचेरी राज्यों के विधान सभा वोट के लिए उन राज्यों में राजमार्ग एवं सड़क जो कि लोगों के टोल के पैसों से वसूला जाएगा की घोषणा कर माननीया वित्त मंत्री ने अपनी असीम योग्यता का परिचय दिया है. प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री श्री अमित साह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा के कृतवाश के रूप में अपनी निष्ठा व्यक्त करते हुए सरकार का यह निश्चय प्रदर्शित किया है कि पहले नौजवानों के रोजगार और जमीन छिना, किसानों की किसानी एवं जमीन छिनी, अब पुरे समाज का ही कपड़ा छिनने के लिए कपास पर 10 प्रतिशत का टैक्स थोप कर लोगों को बेहाल करने का मन बना लिया गया है.

झामुमो की ओर से कहा गया है कि आम बजट संघीय ढांचा विरोधी, राज्य विरोधी, जन विरोधी, किसान-मजदूर विरोधी, महिला और शिक्षा विरोधी एवं पुंजीपति हितैषी बजट है. हम इस आम बजट का निंदा करते हुए इस की तिव्र विरोधिता करते हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.