Take a fresh look at your lifestyle.

रांची में बच्‍चों के सामने आंगनबाड़ी सेविकाओं पर लाठीचार्ज, हेमंत सोरेन ने सीएम को कहा- ‘ठगुबरदास’

0

Ranchi:  राजधानी रांची में राजभवन के समक्ष प्रदर्शन कर रही आंगनबाड़ी सेविकाओं पर पुलिस ने जमकर लाठी भांजी. सड़क के बीचों बीच उन्‍हें घसीट-घसीट कर उनपर लाठी बरसाया गया. इस दौरान कई आंगनबाड़ी सेविकाओं के बच्‍चे भी उनके साथ थे. पुलिस की इस कार्रवाई की हर तरफ निंदा हो रही है.

पुलिस ने लाठीचार्ज तब किया जब धरने पर बैठी आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका  दोपहर बाद तीन बजे राजभवन के पास लगे बैरिकेट को तोड़ कर आगे बढ़ रही थीं. तभी भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने लाठी का इस्‍तेमाल किया.

पुलिस की इस कार्रवाई से कई महिलाओ को हाथ और पैर में चोट लगी है.

15 सितंबर से भूख हड़ताल पर हैं आंगनबाड़ी सेविकाएं

बतातें चलें कि आंगनबाड़ी सेविकाएं 15 सितंबर से भूख हड़ताल पर हैं. सोमवार को भूख हड़ताल पर बैठी एक सेविका की हालत बिगड़ी, तो उसे सदर अस्पताल पहुंचाया गया.

भूख हड़ताल कर रही सेविकाओं की तबीयत रह-रह कर बिगड़ रही है, इन्हें देखने तथा अस्पताल पहुंचाने के लिए धरनास्थल पर 108 एंबुलेंस और स्वास्थ्य कर्मी 24 घंटे तैनात हैं.

आंगनबाड़ी सेविकाओं को रघुवर सरकार ने सात दिन में काम पर लौटने अन्यथा कार्रवाई झेलने का अल्टीमेटम दिया है.

88,000 सेविकाएं हैं आंदोलनरत

झारखंड राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले राज्यभर की लगभग 88 हजार महिलाएं आंदोलनरत हैं. इसमें आंगनबाड़ी कर्मियों का स्थायीकरण, जनवरी 2018 में हुए समझौते को लागू करने, मानदेय के स्थान पर वेतन देने, न्यूनतम वेतन लागू करने, समान काम के लिये समान वेतन दिये जाने सहित स्वास्थ्य बीमा देने की मांग है.

सीएम आवास घेराव करना था मकसद

पुलिस ने लाठीचार्ज तब किया जब महिलाएं मुख्यमंत्री आवास घेरने जा रहीं थी. हालांकि इस लाठीचार्ज में किसी महिला के गंभीर रूप से घायल होने की खबर अबतक नहीं है. आंगनबाड़ी कर्मी 16 अगस्त से हड़ताल पर हैं, वहीं 15 सितंबर से 10 कर्मी भूख हड़ताल पर हैं.

अब झारखंड प्रदेश आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन ने कहा है कि वह राजभवन के समक्ष धरना स्थल पर आज यानी  24 सितंबर को सरकार के उपरोक्त आदेश की प्रतियां फाड़ने के बाद मुख्यमंत्री आवास घेरने जा रहीं थी तभी उन पर लाठियां भांजीं गयी.

आंगनबाड़ी सेविकाओं पर लाठीचार्ज की निंदा

आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक जयशंकर चौधरी ने कहा है कि राजभवन के निकट लंबे समय से अपनी माँगों को लेकर धरने पर बैठी आंगबाड़ी सेविकाओं के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर लाठीचार्ज कि घटना को अत्यंत दुखद और शर्मनाक है.

उन्होंने कहा है कि महिला सुरक्षा और बेटी बचाओ बेटी पढ़ओ कि का नारा देने वाली भाजपा सरकार महिलाओं और बेटियों को पुलिस से पिटवा रही है.

प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन इन पुलिस की इस कार्रवाई को कायरतापूर्ण कहा है. सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए उन्‍होंने बयान जारी करते हुए कहा कि आख़िर किसके आदेश पर यह तानाशाह सरकार अपनी हक़ मांगती बहनों पर लाठियां बरसा रही है. शर्म से डूब मरना चाहिए ऐसी कायरतापूर्ण हरकत करने से पहले. ठगुबर दास थोड़ी शर्म बची हो तो तुरंत इन पुलिसकर्मीयों को बर्खास्त करो.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More