Take a fresh look at your lifestyle.

6 सालों में 3.2 करोड़ खेतिहर मजदूरों का रोजगार छिना : NSSO

0

एनएसएसओ द्वारा किए गए सर्वेक्षण से ये पता चला है कि 2011-12 से लेकर 2017-18 के बीच खेत में काम करने वाले अस्थायी मजदूरों में 40 फीसदी की गिरावट आई है. खात बात ये है कि सरकार ने इस सर्वेक्षण को जारी करने से मना कर दिया है.

यह सर्वेक्षण साल 2017-2018 में किया गया है. खास बात ये है कि सरकार ने इस सर्वेक्षण को जारी करने से मना कर दिया है.

ग्रामीण भारत में 2011-12 और 2017-18 के बीच करीब 3.2 करोड़ अस्थायी मजदूरों (कैजुअल लेबरर) से उनका रोजगार छिन गया. इनमें से करीब तीन करोड़ मजदूर खेतों में काम करने वाले लोग थे.

3.2 करोड़ लोगों का रोजगार छिन गया

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक एनएसएसओ द्वारा साल 2017-2018 में किए गए आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (पीएलएफएस) के हवाले से बताया गया है कि 2011-12 से लेकर 2017-18 के बीच खेत में काम करने वाले अस्थायी मजदूरों में 40 फीसदी की गिरावट आई है.

गौरतलब है कि अस्थायी मजदूर (कैजुअल लेबरर) उन्हें कहते हैं जिन्हें जरूरत के मुताबिक समय-समय पर यानि कि अस्थायी रूप से काम पर रखा जाता है.

एनएसएसओ के आंकड़ों के अनुसार, 2011-12 के बाद से ग्रामीण अस्थायी श्रम खंड (खेत और गैर-खेती) में पुरुष मजदूरों के रोजगार में 7.3 प्रतिशत और महिला मजदूरों के रोजगार में 3.3 प्रतिशत की कमी आई है. इसकी वजह से कुल 3.2 करोड़ लोगों का रोजगार छिन गया है.

इस नुकसान का एक बड़ा हिस्सा लगभग तीन करोड़ कृषि पर निर्भर है. वहीं गैर-कृषि क्षेत्र में मामूली गिरावट (13.5 प्रतिशत से 12.9 प्रतिशत तक) आई है.

उल्लेखनीय है कि दिसंबर 2018 में राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग (एनएससी) द्वारा स्वीकृति दिए जाने के बाद भी अभी तक सरकार ने एनएसएसओ की रिपोर्ट को जारी नहीं किया है. एनएससी के दो सदस्यों, जिसमें इसके कार्यवाहक अध्यक्ष पीएन मोहनन शामिल हैं, ने रिपोर्ट को जारी नहीं करने के विरोध में इस साल जनवरी के अंत में इस्तीफा दे दिया था.

इससे पहले ये रिपोर्ट आई थी कि देश में 1993-1994 के बाद पहली बार पुरुष कामगारों की संख्या घटी है. नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (एनएसएसओ) की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में पुरुष कामगारों की संख्या घट रही है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक 2017-18 में पुरुष कामगारों की संख्या में 28.6 करोड़ थी, जो कि 2011-12, जब एनएसएसओ द्वारा पिछले सर्वे किया गया था, में 30.4 करोड़ थी. उससे पहले साल 1993-94 में यह संख्या 21.9 करोड़ थी. यानि आंकड़े यह दर्शाते हैं कि  पिछले पांच सालों की तुलना में 2017-18 में देश में रोजगार अवसर बहुत कम हुए हैं.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More