आजसू बुद्धिजीवी मंच के केंद्रीय प्रधान महासचिव जे एन सिंह का निधन

by

Ranchi: आजसू बुद्धिजीवी मंच के केंद्रीय प्रधान महासचिव जे एन सिंह के निधन से पार्टी में शोक की लहर है. उनका इलाज मेडिका हॉस्पिटल में चल रहा था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली. जे एन सिंह की बुधवार को हरमू मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार किया गया.

आसजू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि आज मैं अपने मागदर्शक अभिभावक जे एन सिंह सर के निधन से मर्माहत हूं. आज हमने एक ऐसे अभिभावक को खोया है, जो हमेशा हमारा मार्गदर्शन एवं उत्साहवर्द्धन करते रहे हैं. उनका महाप्रयाण पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है. सभी शुभचिंतकों के प्रति हमारी भावपूर्ण संवेदना ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें.

आजसू पार्टी के वरीय उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश चौधरी ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके निधन से बौद्धिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है. वे न केवल बुद्धिजीवी मंच के प्रधान महासचिव थे बल्कि पूरी पार्टी की गतिविधियों में ध्यान रखनेवाले अभिभावक थे. आजसू परिवार को उनकी कमी हमेशा महसूस होगी.

Read Also  रूपा तिर्की की मां ने न्‍याय के लिए राज्यपाल से लगाई गुहार, पत्र में कहा- बेटी की मौत की सीबीआई जांच हो

पूर्व मंत्री राम चंद्र सहिस ने कहा है कि जे एन सिंह सरल, मृदुभाषी और नेक इंसान थे. झारखंडी भावना को नजदीक से समझने और कार्य करने वाले बतौर एक कुशल प्रशासक तो थे ही राजनीतिक जीवन में भी हमेशा झारखंड के बारे में ही सोचते थे.  

पार्टी के केन्द्रीय प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत ने कहा कि जे एन सिंह दुदर्शी थे. साफ-सुथरी राजनीति से सरोकार रखनेवाले और किसी मुद्दों पर बेबाक बोलनेवाले व्यक्ति थे. उनका नहीं रहना पीड़ा पहुंचानेवाली घटना है.
 
जे.एन. सिंह के निधन को संगठन के लिए अपूरणीय क्षति बताते हुए आजसू पार्टी बुद्धिजीवी मंच के अध्यक्ष डोमन सिंह मुंडा ने कहा कि जेएन सिंह के निधन की खबर से उन्हें व्यक्तिगत रूप में गहरा सदमा लगा है. उनके निधन के साथ ही एक युग का अंत हो गया.

Read Also  आदिवासियों में होने वाले सिकल सेल आनुवांशिक बीमारी के उन्‍मूलन के लिए मुहिम शुरू

जे एन सिंह का संक्षिप्त जीवन परिचय

जे एन सिंह ने संत जेवियर कॉलेज, रांची से पढ़ाई करने के पश्चात प्रख्यात माइनिंग इंसटीच्युट इंडियन स्कूल ऑफ मांइस, धनबाद से माईंनिग की डिग्री ली. साथ ही इनके पास लॉ की भी डिग्री थी. जे एन सिंह कोल इंडिया लि के निदेशक के पद से सेवा निवृत हुए थे. जे एन सिंह लॉ के अच्छे जानकार के साथ-साथ एक कुशल प्रशासक भी थे. लम्बे समय से आजसू बुद्धिजीवी मंच से जुड़े थे. वर्तमान में वे उमाशांति अपार्टमेंट, कांके रोड में रहते थे.

उनके निधन पर पार्टी के केन्द्रीय अध़्यक्ष सुदेश कुमार महतो, झारखंड सरकार के मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी, पूर्व मंत्री रामचंद्र सहिस, विधायक लम्बोदर महतो, केन्द्रीय प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत, केन्द्रीय उपाध्यक्ष मो हसन अंसारी, राजेंद्र मेहता, वायलेट कच्छप, बुद्धिजीवी मंच के अध्यक्ष डोमन सिंह मुण्डा, डॉ यु सी मेहता, मुकुंद मेहता, कामेश्वर प्रधान, सुरेश अग्रवाल, अवध सिंह, लंबोदर महतो, अनुशासन समिति के अध्यक्ष सुबोध प्रसाद, सरजीत मिर्धा, बनमाली मंडल, नईम अंसारी, जयंत घोष, महानगर अध्यक्ष ज्ञान सिन्हा, जिला उपाध्यक्ष नुरूल होदा, बंटी यादव, सुनील यादव, निखिल दांगल सार समेत पार्टी के नेताओं ने गहरा शोक व्यक्त किया है.

Read Also  Father's Day 2021: एक पिता का संघर्ष जिन्होंने दिव्यांग बेटे के लिए आविष्कार तक कर दिया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.