फेसबुक के बाद जियो में यह कंपनी करने जा रही भारी निवेश, रिलायंस इंडस्ट्री के शेयर में तेजी

by

विस्टा इक्विटी पार्टनर्स रिलायंस समूह के जियो प्लेटफॉर्म्स में 11,367 करोड़ रुपये में 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदेगी. इससे पहले फेसबुक और सिल्वर लेक, समूह की इस डिजिटल इकाई में क्रमश: 9.99 और 1.15 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा कर चुकी हैं. 

कंपनी ने एक बयान में कहा, ”इसके लिए जियो प्लेटफॉर्म्स का शेयर आधारित मूल्य (इक्विटी वैल्यू) 4.91 लाख करोड़ रुपये हैं जबकि उद्यम मूल्य (एंटरप्राइज वैल्यू) 5.16 लाख करोड़ रुपये आंका गया है.” जियो प्लेटफॉर्म्स में विस्टा इक्विटी पार्टनर्स के 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की घोषणा के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर दो प्रतिशत तक चढ़ गया. 

किसी कंपनी की इक्विटी वैल्यू उसकी मौजूदा और भविष्य की क्षमताओं को दिखाती है जबकि एंटरप्राइज वैल्यू कंपनी की वास्तविक बैलेंस शीट की तरह ही होती है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज और फेसबुक के बाद विस्टा इक्विटी पार्टनर्स की जियो प्लेटफॉर्म्स में सबसे बड़ी हिस्सेदार होगी. 

सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने जियो में 43,574 करोड़ रुपये का निवेश कर 9.99 प्रतिशत और विश्व की सबसे बड़ी प्रौद्योगिकी निवेशक सिल्वर लेक ने 5,665.75 करोड़ रुपये का निवेश कर 1.15 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है.

बयान के मुताबिक तीन हफ्ते से भी कम अवधि में जियो प्लेटफॉर्म्स वैश्विक निवेशकों से 60,596.37 करोड़ रुपये का निवेश जुटा चुकी है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स एक अगली पीढ़ी की डिजिटल प्रौद्योगिकी कंपनी है. इसमें कंपनी की जियो एप, डिजिटल पारिस्थितिक और दूरसंचार एवं तेज गति की इंटरनेट सेवा शामिल है. कंपनी की दूरसंचार सेवा के देशभर में करीब 38.8 करोड़ उपभोक्ता हैं.

इस बारे में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा कि मैं खुशी से विस्टा का स्वागत करता हूं. यह एक मूल्यवान सहयोगी और वैश्विक प्रौद्योगिकी निवेशकों में से एक है. हमारे अन्य निवेशकों की तरह विस्टा भी हमारे भारतीय डिजिटल ढांचे को लगातार बढ़ाने और बदलने के दृष्टिकोण को साझा करती है जो सभी भारतीयों के लिए लाभकारी होगा. विस्टा की भारत में पहले से मौजूदगी है. उसके निवेश वाली कंपनियों में करीब 13,000 लोग नौकरी करते हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.