सीएम की निगरानी में दुरुस्त की जा रही है झारखंड की बिजली व्‍यवस्‍था

Ranchi: झारखंड में निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही है. इसके तहत विद्युत उत्पादन क्षमता में बढ़ोत्तरी, नए सब स्टेशनों औऱ ग्रिडों का निर्माण के साथ ट्रांसमिशन लाइन में वृद्धि की जा रही है. इसके साथ पहले से मौजूद बिजली की आधारभूत संरचना को दुरुस्त करने औऱ कई शहरों में अंडर केबलिंग का कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है. मुख्यमंत्री स्वयं लगातार इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं. ऊर्जा विभाग की सचिव श्रीमती वंदना डाडेल ने आज सूचना भवन में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ये बातें कही.

श्रीमती डाडेल ने कहा कि विद्युत उत्पादन, वितरण और संचरण के साथ सौर ऊर्जा के विकास के लिए कई योजनाओं पर काम हो रहा है. अब शहरों के साथ ग्रामीण इलाकों में भी विद्युत आपूर्ति सामान्य तरीके से हो रहा है.

2021 में पतरातू एनटीसीपी से उत्पादन हो जाएगा शुरु

श्रीमती डाडेल ने बताया कि पतरातू में एनटीसीपी के द्वारा बनाए जा रहे 4000 मेगावाट क्षमता के विद्युत संयत्र से मई 2021 से उत्पादन शुरु हो जाएगा. पहले चरण में 800 मेगावाट बिजली इस संयत्र से मिलेगी. इसके साथ टीवीएनएल के स्वामित्व को लेकर झारखंड-बिहार के बीच अड़चन दूर हो गई है. जल्द ही इसके विस्तारीकरण को लेकर नीतिगत निर्णय लिए जाएंगे.

घर-घर में बिजली कनेक्शन कराया जा रहा उपलब्ध

राज्य के घर-घर में बिजली कनेक्शन स्थापित करने की दिशा में लगातार काम चल रहा है.

श्रीमती डाडेल ने बताया कि दीनदयाय उपाध्याय ग्राम ज्योति 12वीं योजना के अंतर्गत 10,598 ग्रामो और दीन-दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना-नवीन के अंतर्गत 14,783 गांवों का संपूर्ण विद्युतीकरण हो चुका है. इसके अलावा प्रधानमंत्री सहज बिजली अच्छादन योजना सौभाग्य के अंतर्गत 15, 30, 708 नए उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है.

श्रीमती डाडेल ने बताया कि उपभोक्ताओं को गुणवत्तायुक्त बिजली आपूर्ति के लिए झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना (जेएसबीएवाई) को सभी 24 जिलों में शुरु किया गया है. इसके अंतर्गत जेएसबीएवाई के पहले चरण में 46 नए पावर सब स्टेशन, 1857 किमी नए 33 केवीए लाइन बिछाने और पुरानी लाइन की मरम्मत का काम इस साल नवंबर तक पूर्ण कर लिया जाएगा.

इसके अलावा जेएसबीएवाई के दूसरे चरण में ग्रामीण क्षेत्रों में 120 नए पावर सब स्टेशन, 6076 नए ट्रांसफॉर्मर लगाने व 3705 ट्रांसफार्मरों के स्ट्रक्चर व नए केवीए लाइन विछाने व पुरानी लाइन सुदृढ़ीकरण का काम किया जा रहा है.

 शहरों में गुणवत्तायुक्त विद्य़ुत आपूर्ति के लिए तेजी से हो रहा काम

श्रीमती डाडेल ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति को बेहतर व गुणवत्तायुक्त बनाने रखने के लिए आरएपीडीआरपी, आईपीडीएस और झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना के तहत कार्य किए जा रहे है. आरएपीडीआरपी योजना के तहत 17 नए सब स्टेशन का निर्माण, 30 पावर सब स्टेशन का क्षमताविस्तार, 85 पावर सब स्टेशन का सुदृढीकरण, 193 किमी नए 33 केवीए लाइन का निर्माण, 353 किमी भूमिगत केबुल द्वारा लाइन निर्माण, 4292 डिस्ट्रिब्यूशन ट्रांसफॉर्मर की स्थापना व क्षमता विस्तार, 4596 पुराने ट्रांसफॉर्मर का जीर्णोद्वार और 85,200 उपभोक्ताओं के खराब व पुराने मीटर को बदला गया है.

इसके अलावा आईपीडीएस योजना के तहत 8 नए सब स्टेशऩ का निर्माण, 26 पुराने ट्रांसफार्मर का क्षमता विस्तार, 240 किमी नए 33 केवीए लाइन का विस्तार 1591 डिस्ट्रिब्यूशन ट्रांसफार्मर की स्थापना व क्षमता विस्तार के साथ 36,163 उपभोक्ताओं के पुराने व खराब मीटर बदले गए हैं.

झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना के तहत रांची, जमशेदपुर, धनबाद, रामगढ़, देवघर औऱ बासुकीनाथ में अंडरग्राउंड केबलिंग की जा रही है. इसके अलावा रांची, जमशेदपुर औऱ धनबाद शहर में स्काडा के तहत बिद्युत प्रणाली बेहतर बनाने का काम हो रहा है.

29 लाख उपभोक्ताओं के घरों में लगाए जा चुके हैं मीटर

श्रीमती डाडेल ने बताया कि अभियान चलाकर घरों में मीटर लगाए जा रहे हैं.  29 लाख उपभोक्ताओं के घरों में मीटर लगा दिया गया है, जबकि 10 लाख उपभोक्ताओं के यहां मीटरिंग का काम सितंबर माह तक पूरा कर लिया जाएगा. उन्होंने बताया कि पहले चरण में साढ़े तीन लाख लाख स्मार्ट मीटर के अधिष्ठापन के लिए निविदा प्रक्रिया अंतिम चरण में है. उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान में दो लाख से ज्यादा उपभोक्ता डिजिटल पेमेंट कर रहे हैं.

ग्रिड कनेक्टेड रुफटॉफ सोलर पावर प्लांट लगाने को दिया जा रहा बढ़ावा

ज्रेडा की ओर से संवाददाताओं को बताया गया कि ग्रिड कनेक्टेड रुफटॉफ सोलर पावर प्लांट को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए गए हैं. राज्य के 893 सरकारी भवनों में 18.12 मेगावाट क्षमता के ग्रिड कनेक्टेड रुफटॉफ लगाए जा चुके हैं.

इसके अलावा दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति के डीजीपी योजना के तहत राज्य के 242 अविद्युतीकृत गांवों और सौभाग्य योजना के अंतर्गत 85 आफग्रिड गांवों के 3563 घरों और आंशिक विद्युतीकृत 137 गांवों के 4282 घरों को सोलर स्टैंड एलोन सिस्टम के माध्यम से विद्युतीकृत किया जा रहा है.

संवाददाता सम्मेलन में झारखंड बिजली वितरण वितरण निगम के मैनेजिटंग डायरेक्टर श्री राहुल पुरवार, झारखंड ऊर्जा संचरण निगम के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री निरंजन कुमार सहित अन्य मौजूद थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.