Jharkhand का झरिया India’s most polluted city, ताजा रिपोर्ट में कई शहर Danger zone में

by

Ranchi: India’s Top Most Polluted Cities की List ग्रीनपीस इंडिया ने अपनी Annual Report  जारी कर दी है. India’s Top Most Polluted Cities की Latest List के अनुसार Air Pollution के मामले India के 313 शहरों में Jharkhand का Jharia पहले स्‍थान पर है. वहीं Dhanbad 9 वां Most Polluted City है.

इस रिपोर्ट में 313 Cities के साल 2017 का Average PM10 को दर्ज किया गया है. इस दौरान झरिया का Average PM10 level 295 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रहा, जो India में सबसे ज्यादा है. वहीं Dhanbad 238 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर के साथ List में 9वें स्थान पर है.

Report में Ranchi (142 माइक्रोग्राम/घनमीटर), सिंदरी (158माइक्रोग्राम/घनमीटर), सराईकेला (131माइक्रोग्राम/घनमीटर), Jamshedpur (जमशेदपुर) (131माइक्रोग्राम/घनमीटर) और पश्चिम सिंहभूभ (77 माइक्रोग्राम/घनमीटर) भी शामिल हैं.

सबसे दिलचस्प बात है कि हाल ही पर्यावरण मंत्रालय (Ministry of Pollution) द्वारा जारी राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) में रांची और धनबाद जैसे शहरों को प्रदूषित वायु वाले अयोग्य शहरों की श्रेणी में जगह नहीं मिल सकी है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि NCAP 2014 तक 30% भी प्रदूषण कम करने में सफल रहता है फिर भी झरिया, धनबाद, रांची, सिंदरी जैसे शहर राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानको को पूरा ही नहीं कर पायेंगे.

ग्रीनपीस के अभियानकर्ता सुनील दहिया कहते हैं, “हम अक्सर देश में वायु प्रदूषण की स्थिति बताने के लिये दिल्ली का उदाहरण देते हैं. लेकिन यह दिलचस्प है कि झारखंड के शहरों की वायु भी गंभीर रूप से प्रदूषित हैं. यदि 2024 तक इन शहरों का 30 प्रतिशत प्रदूषण भी कम होता है, फिर भी झारखंड के ज्यादातर शहर राष्ट्रीय मानक से अधिक प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर होंगे”.

एनसीएपी में 2015 के डाटा के आधार पर शहरों को शामिल किया गया है, जिसकी वजह से बहुत बड़ी संख्या में दूसरे प्रदूषित शहर छूट गए हैं. ग्रीनपीस इंडिया मांग करती है कि पर्यावरण मंत्रालय 2017 के डाटा के आधार पर रांची, धनबाद सहित अयोग्य शहरों की सूची में देश के बाकी बचे शहरों को भी शामिल करे. तभी एनसीएपी को राष्ट्रीय कार्यक्रम कहा जा सकता है और इससे पूरे देश की हवा को स्वच्छ किया जा सकता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.