स्पेशल ट्रेन से 12 सौ मजदूर आ रहे, अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं 10 लाख प्रवासी झारखंडी

by

Ranchi : केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद दूसरे राज्य के मजदूरों का झारखंड पहुंचने का दौर शुरू हो गया है. पहली स्पेशल ट्रेन में फिलहाल 12 सौ मजदूर हैदराबाद से झारखंड पहुंच रहे हैं. यहां यह बताना बेहद जरूरी है कि लॉकडाउन के दौरान झारखंड के 10 लाख से अधिक मजदूर और छात्र दूसरे राज्यों में फंसे हैं और वह अपने घर पहुंचने के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. हालांकि रांची रेल मंडल ने बताया कि 1200 मजदूरों को लेकर आने वाली यह पहली स्पेशल ट्रेन है. इसके बाद किसी और ट्रेन की जानकारी उन्हें नहीं मिली है.

आइए सबसे पहले आपको यह बताते हैं कि किस राज्य में कितने मजदूर और छात्र फंसे हुए हैं. महाराष्ट्र में 1 लाख, गुजरात 72 हजार, आंध्र 3.7 हजार, पंजाब 3.3, केरल 3.1, राजस्थान 3.8, हिमाचल प्रदेश 2.3 हजार, बिहार 1.5 हजार.

झारखंड पहुंचने वाले सभी प्रवासी मजदूरों का हेल्थ चेकअप और क्‍वारंटाइन में रहने का इंतजाम करना बहुत जरूरी है, जिसके लिए राज्य सरकार को बहुत बड़े कार्य योजना तैयार करने की आवश्यकता है.

वहीं दूसरी ओर 12 सौ मजदूरों को लेकर आने वाली पहली स्पेशल ट्रेन रांची पहुंचने से पहले ही झारखंड में वाहवाही लूटने की होड़ मची हुई है.

झारखंड मुक्ति मोर्चा इसका क्रेडिट मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को दे रही है. वहीं दूसरी ओर झारखंड के भाजपा के नेता स्पेशल ट्रेन की सफलता का श्रेय रेल मंत्री और गृह मंत्री को दे रहे हैं. ऐसे में कोई यह नहीं सोच रहा है कि झारखंड के बाहर अभी भी 10 लाख मजदूर और छात्र अपने घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं.

हालांकि झारखंड सरकार की ओर से 16 अलग-अलग अधिकारियों को विभिन्न राज्यों का नोडल पदाधिकारी नियुक्त किया गया है और कहा गया है कि वह इनसे संपर्क कर सकते हैं. ताकि दूसरे राज्यों में फंसे मजदूर और छात्रों को झारखंड लाया जा सके. इस दौरान कुछ मजदूरों ने शिकायत की है संबंधित अधिकारियों से संपर्क नहीं हो पा रहा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.