Take a fresh look at your lifestyle.

झारखंड में एक जून से खोले जाएंगे स्‍कूल, फीस नहीं लेने के फैसले को लेकर सरकार में असमंजस

0 168

Ranchi: झारखंड सरकार ने एक जून से राज्य में विद्यालयों को खोलने का फैसला किया है. स्‍कूल खोलने के फैसले के साथ ही स्कूल की टाइमिंग में बदलाव किया गया है और स्कूल के वक्त को बढ़ाया गया है. झारखंड सरकार ने स्कूल खोलने के साथ ही लॉकडाउन के कारण बाधित पढ़ाई की भरपाई के लिए समय को बढ़ा दिया है.

झारखंड सरकार ने पढ़ाई के समय को दो घंटों के लिए बढ़ा दिया है. इसके चलते अब स्कूल में पढ़ाई का समय 5 घंटे से बढ़ाकर 7 घंटे कर दिया गया है. साथ ही शनिवार को हाफ डे नहीं होकर, फुल डे होगा. इस बारे में बात करते हुए शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने बताया कि 1 जून से राज्य के सभी स्कूलों को खोलने की तैयारी पूरी तरह से कर ली गई है. स्थिति अनुकूल नहीं रही तो तारीख आगे भी बढ़ा सकते हैं.

जानकारी के अनुसार आपदा प्रबंधन विभाग ने सरकारी स्कूलों को खोलने की अनुमति दे दी है. शुरू में अभी स्कूलों में गैर शैक्षणिक कार्य ही होंगे. इनमें नए बच्चों के नामांकन, किताबों का वितरण आदि शामिल हैं.

बता दें कि स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने आपदा प्रबंधन विभाग से स्कूलों को खोलने व किताबों के वितरण की अनुमति मांगी थी. विभाग ने अभी तक जो प्रस्ताव तैयार किया है उसके तहत एक जून से स्कूल आंशिक तथा 15 जून से पूरी तरह खुलेंगे. प्रस्ताव के अनुसार एक जून से गैर शैक्षणिक कार्य होंगे तथा कक्षा आठ से ऊपर के बच्चों की पढ़ाई शुरू होगी.

स्कूल फीस को लेकर निजी स्कूलों के प्राचार्यो के साथ होगी बैठक

राज्य सरकार लॉकडाउन अवधि में निजी स्कूलों द्वारा फीस नहीं लेने के मामले में कोई अंतिम निर्णय लेने से पहले स्कूल प्रबंधन से बात करेगी. इसकी तैयारी चल रही है. विभागीय सूत्रों के अनुसार मुख्य सचिव सुखदेव सिंह तथा शिक्षा सचिव राहुल शर्मा रांची के निजी स्कूलों के प्रबंधन व अभिभावक संघ के प्रतिनिधिमंडल के साथ शीघ्र बैठक करेंगे. बैठक में फीस नहीं लेने को लेकर सहमति बनाने का प्रयास किया जाएगा.

इधर, निजी स्कूलों के फीस के निर्धारण को लेकर गठित होनेवाली कमेटी को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है. चर्चा है कि अब कमेटी का गठन नहीं होगा. इसके बदले निजी स्कूलों के साथ ही बैठक कर इसपर अंतिम निर्णय लिया जाएगा.

बता दें कि शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने इसके लिए कमेटी गठित करने का निर्देश देते हुए कहा था कि जबतक इसकी रिपोर्ट नहीं आ जाती तबतक निजी स्कूल अप्रैल व मई माह की फीस नहीं लेंगे. हालांकि कई स्कूल अप्रैल माह का शुल्क ले रहे हैं.

किताब बांटने का भी फैसला करे सरकार : सुदेश

आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो ने कहा है कि शराब की दुकानें खुलवाने में जल्दबाजी करनेवाली राज्य सरकार स्कूलों में बच्चों को किताबें पहुंचाने का भी फैसला शीघ्र करे. किताबें छपकर अधिकतर प्रखंड मुख्यालयों में पड़ी हुई हैं. आजसू अध्यक्ष ने कहा कि शराब की दुकानें खोलने के लिए सरकार से लेकर सिस्टम की चिंता जगजाहिर है, लेकिन लाखों बच्चों की भविष्य से जुड़े मसले पर कोई गंभीरता नहीं दिख रही है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.