लॉक डाउन 3 में केंद्र सरकार की छूट के बावजूद झारखंड में बंद रहेंगी शराब और पान की दुकान

by

Ranchi: 4 मई से लॉक डाउन 3 शुरू हो रहा है जो 17 मई तक चलेगा. इस दौरान केंद्र सरकार की गाइडलाइन में छूट का दायरा बढ़ाया गया है. इस सूट में खासतौर पर चर्चा का विषय यह है की शराब और पान की दुकान भी खुली रहेंगी. लेकिन झारखंड में ऐसा फिलहाल बिल्कुल नही होगा. लॉक डाउन 3 के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी गई छूट झारखंड में लागू नहीं होंगे.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मिटकर कहा है कि इतिहास के तौर पर झारखंड राज्य में अगले दो हफ्तों तक ब्लॉक डाउन लागू रहेगा मुख्यमंत्री ने यह साफ करते हुए कहा है की केंद्र सरकार द्वारा लॉक डालने को लेकर दिए गए नए निर्देश फिलहाल झारखंड में लागू नहीं होंगे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसके पीछे की बड़ी वजह बताते हुए कहा है कि हमारे श्रमिक भाई-बहन छात्र-छात्राएं एवं अन्य लोग विभिन्न राज्यों से अपने घर आ रहे हैं राज्य वासियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए यह जरूरी है.

मालूम हो कि केंद्र सरकार ने लॉकडाउन 3.0 में कुछ रियायतें दी है. जो निम्‍न है…

सभी जोन यानी रेड, ऑरेंज और ग्रीन में 65 वर्ष के ऊपर सभी लोग, गर्भवती महिलाओं और 10 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों को घर में रहना होगा.

सभी तीन जोन में मेडिकल क्लिनिक्स, ओपीडी को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए चलाने की अनुमति दी गई है.

कुछ खास गतिविधियों के लिए जिनका आदेश है, उसके लिए लोग घरों से बाहर से निकल सकेंगे. चार पहिए गाड़ी में ड्राइवर के अलावा दो लोग यात्रा कर सकेंगे. लेकिन टू-व्हीलर गाड़ी पर पीछे बैठने वाले को इजाजत नहीं है.

शहरी इलाकों में मॉल्स या मार्केट कांप्लेक्स को खोलने की इजाजत नहीं है. लेकिन सिंगल दुकानें जो किसी सोसाइटी के पास है, उन्हें खोलने की इजाजत है.
प्राइवेट दफ्तर जरूरत के हिसाब से 33 प्रतिशत स्टाफ के साथ कामकाज कर सकते हैं, जबकि 67 फीसद स्टाफ को घर से ही काम करना होगा.
ये सेवाएं रहेगी बंद

नई गाइडलाइन के तहत कुछ कामकाज तीनों जोन में पूरी तरह बंद रहेंगे. इसमें एयर, रेल, मेट्रो, अंतरराज्यीय परिवहन, स्कूल, कॉलेज और दूसरे शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे. होटल रेस्टोरेंट्स, मॉल्स, सार्वजनिक जगहों पर लोग इकट्ठा नहीं हो सकेंगे. इसके साथ ही सिनेमा हॉल्स, जिम और स्पोर्ट्स कांप्लेक्स भी नहीं खुलेंगे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.