Jharkhand: सरकारी शिक्षकों ने इजाद किया नयी तकनीक, फर्राटेदारा अंग्रेजी बोलते हैं बच्‍चे

by

Ranchi: लोकल खबर के पास एक वीडियो है. इस वीडियो में सरकारी स्‍कूल की दो बच्चियां फर्राटेदार अंग्रेजी में सवाल-जवाब करते दीख रही हैं. इसे देखकर यकीन होता है कि सरकारी स्‍कूलों में भी प्राइवेट स्‍कूलों के बराबर सुधार हो चला है. सिल्‍ली प्रखंड के झाबरी और मेदनी के राज्‍यकृत मध्‍य विद्यालय में कुछ शिक्षकों ने नये प्रयोगों के जरिये जीरो इंवेस्‍टमेंट से बच्‍चों को बेहतर शिक्षा देने में कामयाबी हासिल की है. जिसकी प्रशंसा झारखंड के बाहर भी हो रही है.

हाल ही में मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से दिल्ली में आयोजित समारोह के दौरान शून्य निवेश नवाचार के क्षेत्र में अध्यापकों के उल्लेखनीय योगदान देने के लिए काफी प्रशंसा मिली. सिल्ली प्रखंड से सम्मानित होने वाली इन शिक्षकों में राजकीयकृत मध्य विद्यालय झाबरी के शैलेश कुमार, राजकीयकृत प्राथमिक विद्यालय मेदनी के बबलू कुमार वर्मा व त्रिदेव मांझी शामिल रहे.

सम्मानित शिक्षक शैलेश कुमार ने बताया कि इस कार्यक्रम में देशभर के 18 राज्यों के 15 लाख शिक्षकों के शून्य निवेश आधारित नवाचारों में से चयनित 600 शिक्षकों को सम्मानित किया है. इसमें झारखंड के विभिन्न जिलों के 31 नवाचारी शिक्षक शामिल हैं.

इन नवाचारी शिक्षाकों में रांची जिले के सिल्ली प्रखंड के शैलेश कुमार रैपर द्वारा शिक्षा देने व बबलू कुमार वर्मा तथा त्रिदेव माझी को सामुदायिक सहभागिता विधि द्वारा शिक्षा देने के शिक्षण पद्धति के नवाचारी पहल को राष्ट्रीय स्तर पर चयनित किया गया.

बबलू कुमार वर्मा ने बताया की जेडआईआईईआई के द्वारा प्रकाशित राज्य स्तरीय पुस्तक में उन्हें प्रमुखता से शामिल किया गया है। शिक्षा में सृजनात्मक खोज एवं शून्य निवेश नवाचार के क्षेत्र में यह कार्यक्रम श्री अरविंदो सोसायटी की ओर से जेडआईआईईआई के रूप में चलाया जाता है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.