शांतिपूर्ण रहा झारखंड बंद, 16 हजार से अधिक बंद समर्थक गिरफ्तार

by

#Ranchi: भूमि अधिग्रहण कानून में संशोधन के खिलाफ गुरुवार को झारखंड बंद का मिलाजुला असर रहा. राजधानी रांची सहित विभिन्न जिलों में भी बंद शांतिपूर्ण रहा. राजधानी में बंद के दौरान अधिकांश दुकाने बंद रहीं. सरकारी स्कूल खुले रहे, पर निजी स्कूल बंद रहे. अन्य दिनों की अपेक्षा वाहनों का परिचालन कम हुआ. नगर निगम के बस सड़कों पर चली.

सभी बंद समर्थकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

पंडरा में बंद समर्थकों ने कुछ वाहनों के साथ तोड़फोड़ की लेकिन पुलिस ने बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया. कांके में बंद समर्थकों ने सुबह-सुबह रोड पर टायर जलाकर रोड बाधित किया लेकिन पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आग लगे टायर को हटा दिया. नामकुम, कोकर, बरियातू, करमटोली चौक सहित अन्य स्थानों पर भी बंद समर्थक सड़क पर उतरे थे. सभी बंद समर्थकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. बैंक और सरकारी कार्यालयों में अन्य दिनों की तरह काम हुआ. राज्य के सभी जिलों में बंद समर्थक सड़कों पर उतरे कई जगहों पर यातायात बाधित करने का प्रयास किया गया लेकिन पुलिस ने अपने-अपने क्षेत्रों में बंद समर्थकों को शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने के बाद गिरफ्तार कर लिया. जामताड़ा जिले में दुमका मुख्य एनएच को बंद समर्थकों ने कुछ देर के लिए जाम किया.

Read Also  DGP को पत्र लिखकर Babulal Marandi ने पुलिस पर लगाए कई संगीन आरोप

पुलिस ने बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया. बोकारो जिले में झारखण्ड बंद का जोरदार असर देखने को मिला. बेरमो में रोड सेल बंद रहा व दुकान व अन्य प्रतिष्ठान व कोयले की ट्रांसपोर्टिंग भी ठप रही. वहीं, पलामू जिले में झारखण्ड बंद का असर सुबह से दिखा.

बंद को सफल बनाने के लिए झामुमो, कांग्रेस, झाविमो, राजद सहित वामदल और सामाजिक संगठन सुबह से ही सड़को पर उतर आये थे. कोल्हान में झारखंड बंद के दौरान स्थिति सामान्य रही है. जमशेदपुर चाईबासा और सरांयकेला में हर तरफ सुरक्षा बल मुस्तैद थे. इसकी वजह से कहीं भी किसी भी प्रकार की दिक्कत आम लोगों को नहीं हुई बंद के दौरान जमशेदपुर से 1942 चाईबासा से 323 और सरायकेला से 525 समर्थकों को गिरफ्तार किया गया.

Read Also  झारखंड में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, कैबिनेट की मुहर

कोल्हान डीआईजी कुलदीप द्विवेदी ने बताया कि पूरे कोल्हान में स्थिति पीसफुल रही. आईजी अभियान सह पुलिस प्रवक्ता आशीष बत्रा ने बताया कि रांची से बंद के दौरान 447 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मंराडी, नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन, बंधु तिकी, प्रदीप यादव, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार, केएन त्रिपाठी, सुबोधकांत सहाय सहित अन्य नेता शामिल है, जबकि गुमला से 371, लोहरदगा से 392, सिमडेगा 52, जमशेदपुर से 2304, चाईबासा से 184, सरायकेला 436, पलामू 306, गढ़वा 679, लातेहार 250, हजारीबाग 301, रामगढ़ 501,कोडरमा 476, चतरा 72, गिरिडीह 769, धनबाद 1212, बोकरो 188, दुमका 1625, देवघर 1190, जामताड़ा 1010, गोड्डा 685, पाकुड़ से 500 और साहेबगंज से 206 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है.

Read Also  फीस नहीं जमा करने से रांची के कारण निजी स्कूल स्टूडेंट को ऑनलाइन क्लास से कर रहे हैं रिमूव

जमशेदपुर से कांग्रेस के प्रदीप बुलमुचू, विजय खान, आनंद बिहारी दुबे, हजारीबाग से भुनेश्वर मेहता, कोडरमा से अन्नपूर्णा देवी, चतरा से सत्यानंद भोक्ता, ब्रदी प्रसाद, गिरडीह से कांग्रेस के सरफराज अहमद, लक्ष्मण स्वर्णकार, निजामुद्दीन, दुमका से नलिन सोरेन, देवघर से सुरेश पासवान, पूर्व मंत्री हाजी हुसैन अंसारी, फुरकान अंसारी, शशि शेखर भोक्ता और गोड्डा से राजेश रजक शामिल है.

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि राज्यभर से लगभग 16000 हजार बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है. बंद के दौरान कहीं भी कोई अप्रीय घटना की सूचना नहीं है. बंद पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.