छठ पूजा कोरोना गाइडलाइन: झारखंड में जलाशयों में अर्घ्‍य की पूर्ण पाबंदी, बिहार में तालाबों में पूजा की छूट

by

Ranchi: छठ पूजा के लिए झारखंड और बिहार की सरकारों ने गाइडलाइन जारी कर दिए हैं. झारखंड में एक ओर जहां अर्घ्‍य देने के लिए सभी तरह के जलाशयों में जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है, वहीं बिहार की सरकार ने सिर्फ नदियों पर उमड़ने वाली भीड़ पर पाबंदी है. यहां तालाबों में छठ पूजा करने की छूट दी गई है. यहां आपको बताने जा रहे हैं झारखंड-बिहार में जारी कोरोना गाइडलाइन में अंतर क्‍या है.

झारखंड में सभी तरह के जलाशयों में छठ पूजा पर रोक

झारखंड सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार इस बार कोरोना (कोविड-19) महामारी की वजह से तालाबों और नदियों के किनारे छठ महापर्व का आयोजन नहीं किया जा सकेगा.

Read Also  रांची में लाइटहाउस परियोजना का निर्माणकार्य विरोध प्रदर्शन कर रोका, लोगों ने कहा- पहले मालिकाना हक दे सरकार

इसे लेकर राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने रविवार रात दिशा-निर्देश जारी किया है. इसमें कहा गया है कि छठ महापर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए नदियों व तालाबों में केंद्र सरकार के निर्देशों और सोशल डिस्टेंसिंग (दो गज दूरी) का पालन संभव नहीं है. ऐसे में लोगों को अपने घरों में ही इस बार छठ महापर्व का आयोजन करना होगा.

जारी दिशा-निर्देश स्पष्ट कहा गया है कि इस बार छठ महापर्व के दौरान किसी भी नदी, लेक, डैम या तालाब के छठ घाट पर किसी तरह के कार्यक्रम के आयोजन की मनाही होगी. छठ घाट के समीप कोई दुकान, स्टॉल आदि नहीं लगेगा. पर्व के दौरान सार्वजनिक स्थल पटाखा, लाइटिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यक्रम पर पूरी तरह से रोक रहेगी.

Read Also  कुंभ मेला में कोरोना ब्‍लास्‍ट, 102 श्रद्धालु संक्रमित

बिहार में तालाबों में पूजा की अनुमति

छठ महापर्व को लेकर बिहार सरकार ने भी दिशा-निर्देश जारी कर दिये हैं. इसके तहत इस बार गंगा समेत राज्य की तमाम बड़ी नदियों के घाटों पर छठ पर्व का आयोजन नहीं होगा. लेकिन, ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में मौजूद तालाब में छठ पर्व करने की अनुमति दी गयी है. इस दौरान कोविड-19 से जुड़े तमाम दिशा-निर्देशों का पालन कराया जायेगा.

जिन तालाबों में छठ पर्व का आयोजन होगा, वहां अर्घ्य से पहले और बाद में पूरे तालाब क्षेत्र को सैनिटाइज कराने की व्यवस्था की जायेगी. यह काम नगर निकाय और ग्राम पंचायत के स्तर से कराया जायेगा. घाटों के आसपास किसी तरह के खाने-पीने के स्टॉल नहीं लगाये जायेंगे. घाट पर किसी तरह का भोज या प्रसाद का वितरण नहीं किया जायेगा.

Read Also  युवती ने स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बन्‍ना गुप्‍ता को मुंह में सुना दी खरी-खोटी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.