झारखंड विधानसभा चुनाव: चेहरे को लेकर उलझन में महागठबंधन

by

Ranchi: झारखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम राजनीतिक पार्टियां तैयारियों में जुट गई हैं. एक ओर बीजेपी चुनावी मैदान में रघुवर दास के चेहरे को लेकर चुनाव मैदान में उतर रही है, वहीं दूसरी ओर महागठबंधन में बिखराव दीख रहा है. कांग्रेस के नये प्रदेश अध्‍यक्ष रामेश्‍वर उरांव का कहना है कि अभी महागठबंधन का चेहरा तय नहीं हुआ है. सीट शेयरिंग तय होने के बाद ही चेहरा भी तय होगा. वहीं जेएमएम का का कहना है कि रामेश्‍वर उरांव नये हैं. उन्‍हें मालूम कुछ नहीं है. सब कुछ पहले ही लिखित में तय हो चुका है.

इसे भी पढ़ें: झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी का चेहरा होंगे रघुवर दास

2019 अंत होने से पहले झारखंड में विधानसभा चुनाव संपन्‍न हो जाएंगे और नई सरकार काम करेगी. इसकी तैयारी को लेकर सूबे के सभी राजनीतिक पार्टियां रेस हो गई हैं. चुनावी रणनीति तय करने में एनडीए के घटक बीजेपी और आजसू आगे दिख रहे हैं. आजसू की के सभी प्रमुख नेता अपने इलाके में चुनाव की तैयारी में जुट गये हैं और मिलन समारोह आयोजित किये जा रहे हैं.

वहीं बीजेपी की ओर से अगली सरकार के लिए फिर से रघुवर दास को चेहरा के तौर पर ऐलान कर दिया गया है. इसके लिए बीजेपी पूरे झारखंड में दो बड़े कार्यक्रम शुरू करेगा. 9 सितंबर 2019 को ‘घर-घर रघुवर’ कार्यक्रम शुरू होगा. उसके बार जन आशीर्वाद योजना 15 सितंबर से आरंभ होगा. साथ ही इसी महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का झारखंड दौरा बेहद महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है.

महागठबंधन बिखरा-बिखरा सा

वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियों का महागठबंधन बिखरा-बिखरा सा है. विपक्ष के इस हालत पर बीजेपी चुटकी भी ले रही है. बीजेपी प्रदेश अध्‍यक्ष लक्ष्‍मण गिलुआ का कहना है कि विधानसभा चुनाव में यहां कोई महागठबंधन नहीं होगा. उन्‍होंने कहा कि यदि कोई गठबंधन भी होती है तो हम 65 पार के लक्ष्‍य को हासिल कर लेंगे.

बीजेपी झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के लिए रघुवर दास के चेहरे को लेकर तैयारी शुरू कर दी है. वहीं दूसरी ओर महागठबंधन का चेहरा तय नहीं है. लोकसभा चुनाव के दौरान तय किया गया फार्मूला अब किसी काम का नहीं दिख रहा है. महागबंधन की बड़ी घटक कांग्रेस पार्टी अपने लिए बड़ी भूमिका चाहती है. कांग्रेस के नये प्रदेश अध्‍यक्ष बने रामेश्‍वर उरांव का कहना है कि सीट शेयरिंग की बात कांग्रेस के लिए सम्‍मान की बात है. यह बड़ी जनाधार वाली पार्टी है.

हेमंत सोरेन की चुनावी चाल

झारखंड में विपक्षी महागठबंधन के सबसे महत्‍वपूर्ण घटक जेएमएम ने अकेले चुनावी तैयारी शुरू कर दी है. झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्‍यक्ष हेमंत सोरेन ने बदलाव यात्रा का चुनावी आगाज करके अपनी पहली चाल चल दी है. हेमंत सोरेन का कहना है कि बीजेपी को जमीनी हकीकत का एहसा हो गया है. जनता अब बदलाव के मूड में है.

वहीं जेएमएम कांग्रेस अध्‍यक्ष की बातों को ज्‍यादा भाव नहीं देना चाहती है.  पार्टी के महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य का कहना है कि रामेश्‍वर उरांव नए-नए कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष बने हैं. उन्‍हें बहुत सारी पुरानी बातों की जानकारी नहीं है.

उन्‍होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 के पहले ही सब कुछ तय हो गया था. विधान सभा चुनाव के लिए चेहरा भी तय है और सीट शेयरिंग का स्‍वरूप भी तय है. सिर्फ औपचारिकता भर बाकी रह गया है. वह भी बहुत जल्‍द पूरी कर लेंगे.

एक तरफ जहां बीजेपी मुख्‍यमंत्री रघुवर दास को अपना चेहरा मानकर मिशन 65 प्‍लस को लेकर आश्‍वस्‍त है. वहीं दूसरी ओर महागठबंधन के दो बड़े दल कांग्रेस और जेएमएम आपस में ही चेहरे को लेकर उलझे हुए हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.