झारखंड विधानसभा चुनाव : अंतिम चरण की 16 सीटों के लिए मतदान शुरू

Ranchi: झारखंड विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण में छह जिले की 16 सीटों के पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुक्रवार को सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ. इनमें 11 सीटों पर राजमहल, पाकुड़, नाला, दुमका, जामताड़ा, जामा, जरमुंडी, सारठ ,पोड़ैयाहाट, गोड्डा और महागामा में मतदान का समय सुबह सात से शाम पांच बजे तक निर्धारित है. पांच सीटों बोरियों, बरहेट, लिट्टीपाड़ा, महेशपुर और शिकारीपाड़ा में सुबह सात से तीन बजे तक वोट डाले जाएंगे.

मतदाताओं की जागरूकता के कारण कड़ी ठंड में भी मतदान करने को लेकर लोगों की लाइन सुबह से ही लगने लगी थी. बूथ पर पहले मतदान करने वाले मतदाता को सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा है. आज इन 16 सीटों पर शांतिपूर्ण मतदान जारी है. कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. दुमका, जामताड़ा, देवघर पाकुड़ और गोड्डा के कुछ बूथों पर ईवीएम खराब होने की छिटपुट शिकायतें मिली हैं.

इन सभी सीटों के लिए कुल 5389 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इनमें शहरी क्षेत्र में 269 और ग्रामीण क्षेत्र में 5120 मतदान केंद्र शामिल है. ये सभी मतदान केंद्र 4096 मतदान केंद्र भवनों में स्थित है. इन मतदान केंद्रों में कुल 40,05,287 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे. इन मतदाताओं में 20,49,921 पुरुष, 19,55,336 महिला, 30 थर्ड जेंडर और 93,779 नए मतदाता (जो पहली बार बने) हैं. इसके अलावा 80 साल से ज्यादा आयु के 41,505 और 49,446 दिव्यांग मतदाता हैं.

छह जिले की 16 विधानसभा सीटों पर हो रहा मतदान

पांचवें और अंतिम चरण में 16 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव हो रहा है. इनमें साहेबगंज जिले में राजमहल, बोरियो औऱ बरहेट, पाकुड़ जिले में लिट्टीपाड़ा, पाकुड़ तथा महेशपुर, जामताड़ा जिले में नाला और जामताड़ा, दुमका जिले में शिकारीपाड़ा, दुमका, जामा और जरमुंडी, देवघर जिले में सारठ औऱ गोड्डा जिले में पोडैयाहाट, गोड्डा औऱ महगामा विधानसभा सीट पर वोटिंग हो रही है.

दिव्यांग मतदाताओं के लिए मिल रही विशेष सुविधा

दिव्यांग मतदाताओं की मतदान में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए विशेष सुविधाएं दी जा रही है. 16 सीटों पर हो रहे चुनाव में दिव्यांग मतदाताओं को विशेष सहूलियत दी जा रही है. इसके लिए मतदान केंद्रों में 2065 व्हील चेयर औऱ 7505 वॉलेंटियर्स काम कर रहे हैं. इसके अलावा उन्हें घर से मतदान केंद्र तक लाने और ले जाने के लिए 2766 वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

236 उम्मीदवार चुनाव मैदान में

पांचवें और अंतिम चरण के चुनाव में 236 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. इनमें 207 पुरुष और 29 महिला उम्मीदवार शामिल हैं. जरमुंडी सीट से सबसे ज्यादा 26 और पोड़ैयाहाट सीट के लिए सबसे कम 7 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. इसके अलावा राजमहल से 23, बोरियो से 12, बरहेट से 12, लिट्टीपाड़ा से 11, पाकुड़ से 11, महेशपुर से 12, शिकारीपाड़ा से 13, नाला से 16, जामताड़ा से 13, दुमका से 13, जामा से 15, सारठ से 21, गोड्डा से 14 और महगामा से 17 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है.

1347 मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग

16 सीटों पर चुनाव को लेकर कुल 5389 मतदान केंद्रों में से 1347 बूथों पर वेबकास्टिंग की जा रही है. वेबकास्टिंग के जरिए मतदान की हर गतिविधियों की मॉनिटरिंग की जा रही है. इसके तहत सबसे ज्यादा पाकुड़ में 123 मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग की जा रही है. इसके अलावा राजमहल में 95, बोरियो में 87, बरहेट में 71, लिट्टीपाड़ा में 69 , महेशपुर में 77, शिकारीपाड़ा में 66, नाला में 83, जामताड़ा में 92, दुमका में 83 , जामा में 68 , जरमुंडी में 72 , सारठ में 79, पोड़ैयाहाट में 86 गोड्डा में 98 औऱ महागामा में 98 मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग हो रही है. इन मतदान केंद्रों से होने वाली वेबकास्टिंग की मॉनिटरिंग राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और सभी जिलों के जिला निर्वाचन पदाधिकारी कर रहे है.

पाकुड़ में सबसे ज्यादा 48 महिला संचालित मतदान केंद्र

मतदान में महिलाओं की सहभागिता को बढ़ाने के लिए 133 महिला संचालित मतदान केंद्र बनाए गए हैं. राजमहल में 10, बोरियो में 15, बरहेट में 15, पाकुड़ में 48, जामताड़ा में 16 , दुमका में 18, जामा में 3, जरमुंडी में 4, सारठ में 1, पोड़ैयाहाट में 1, गोड्डा में 1 औऱ महागामा में 1 महिला संचालित मतदान केंद्र बनाए गए हैं. लिट्टीपाड़ा, महेशपुर, शिकारीपाड़ा और नाला में एक भी महिला संचालित मतदान केंद्र नहीं है.

दुमका में सबसे ज्यादा 35 आदर्श मतदान केंद्र

चुनाव को लेकर 249 आदर्श मतदान केंद्र बनाए गए हैं. राजमहल में 29, बोरियो में 21 ,बरहेट में 13 ,लिट्टीपाड़ा में 19, पाकुड़ में 08, महेशपुर में 11, शिकारीपाड़ा में 14, नाला में 3, जामताड़ा में 6, दुमका में 35, जामा में 14 , जरमुंडी में 18 ,सारठ में 8, पोड़ैयाहाट में 23 गोड्डा में 15 औऱ महागामा में 12 आदर्श मतदान केंद्र बनाये गए हैं.

1717 अति संवेदनशील औऱ 1973 संवेदनशील मतदान केंद्र

मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. पांचवें और अंतिम चरण में 5389 मतदान केंद्रों में से 1717 अति संवेदनशील औऱ 1973 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं. नक्सल प्रभावित इलाकों में 396 अति संवेदनशील और 208 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं. गैर नक्सल इलाकों में अति संवेदनशील मतदान केंद्रों की संख्या 1321 और संवेदनशील मतदान केंद्रों की संख्या 1765 है. इसके अलावा सामान्य मतदान केंद्रों की संख्या 1699 है. नक्सल की दृष्टिकोण से शिकारीपाड़ा और लिट्टीपाड़ा विधानसभा क्षेत्र को अति संवेदनशील माना जाता है. लोकसभा चुनाव के दौरान शिकारीपाड़ा में नक्सलियों ने पोलिंग पार्टी और पुलिसकर्मियों को निशाना बनाया था. शांतिपूर्ण और निष्पक्ष मतदान के लिए लगभग 41 हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. इनमें 275 कंपनी केंद्रीय सुरक्षा बल, जिला पुलिस और होमगार्ड के जवान शामिल हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.