ISRO ने लॉन्च किया जासूसी सैटेलाइट PSLV-C46

by

Hyderabad: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने बुधवार सुबह 5.30 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से जासूसी सैटेलाइट पोलर सैटेलाइट लांच व्हीकल (PSLV-C46) को सफलतापूर्वक लॉन्च किया.

इसरो के मुताबिक बादल रहने पर रेगुलर रिमोट सेंसिंग या ऑप्टिकल इमेजिंग सैटेलाइट जमीन पर मौजूद चीजों की स्थिति ढंग से नहीं दिखा पाते. सिंथेटिक अपर्चर रडार (सार) इस कमी को पूरा करेगा.

यह हर मौसम में चाहे रात हो, बादल हो या बारिश हो, ऑब्जेक्ट की सही तस्वीर जारी करेगा. इससे आपदा राहत में और सुरक्षाबलों को काफी मदद मिलेगी.

PSLV-C46 ने सफलतापूर्वक रडार इमेजिंग अर्थ ऑब्जर्वेशन सेटेलाइट (RISAT-2B) रडार पृथ्वी अवलोकन सैटेलाइट को 555 किमी ऊंचाई वाले लो अर्थ ऑर्बिट में इंजेक्ट किया. यह पीएसएलवी की 48वीं उड़ान है.

Read Also  झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्‍या है गाइडलाइन

यह सीरीज का चौथा सैटेलाइट है, जो खुफिया निगरानी, कृषि, वन और आपदा प्रबंधन सहयोग जैसे क्षेत्रों में मदद करेगा.

RISAT-2B सैटेलाइट का इस्तेमाल किसी भी तरह के मौसम में टोही गतिविधियों, रणनीतिक निगरानियों और आपदा प्रबंधन में आसानी से किया जा सकेगा. इस सैटेलाइट के साथ सिंथेटिक अपर्चर रडार(सार) इमेजर भेजा गया है. इससे संचार सेवाएं निरंतर बनी रहेंगी.

उल्लेखनीय है कि यह सैटेलाइट प्राकृतिक आपदाओं में मदद करेगा. इसके जरिए अंतरिक्ष से जमीन पर तीन फीट की ऊंचाई तक की अच्छी तस्वीरें ली जा सकती हैं. इस सीरीज के सैटेलाइट को सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने के लिए 26/11 मुंबई हमलों के बाद विकसित किया गया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.