कोरोना संकट से ISRO के ‘गगनयान’ और ‘चंद्रयान 3’ समेत कई मिशन प्रभावित

New Delhi: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने भारत सहित पूरी दुनिया में भारी दहशत फैला दी है. पिछले 3 महीनों से कोरोना वायरस थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस वायरस के कारण देश को हर क्षेत्र में काफी नुकसान हुआ है. ऐसी स्थिति में, अब ऐसी जानकारी सामने आ रही है कि इस वायरस का प्रकोप भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की गति तक पहुंच गया है.

वास्तव में, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण गगनयान ‘के पहले चरण के तहत भारत के मानव रहित अंतरिक्ष मिशन को भेजने में देरी हो सकती है. जिसे दिसंबर 2020 में लॉन्च करने की योजना है. वास्तव में, इसरो ने ‘गगनयान’ के तहत पहली बार मनुष्यों को अंतरिक्ष में भेजने की योजना से पहले, दिसंबर 2021 में दो मानव रहित मिशनों को अंतरिक्ष में भेजने की योजना बनाई है.

Read Also  रांची में हनुमान मंदिर घुसकर मूर्ति तोड़ी, पुलिस ने बिना जांचे आरोपी रमीज को बताया विक्षिप्‍त

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमणों की संख्या लगातार बढ़ रही है. ऐसी स्थिति में, पहले मानवरहित मिशन में संभावित देरी को हाल ही में अंतरिक्ष आयोग को अवगत कराया गया है. जो अंतरिक्ष से संबंधित मुद्दों पर शीर्ष नीति बनाने वाली इकाई है. अंतरिक्ष आयोग के अध्यक्ष, इसरो के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव के। निर्बाध हैं. आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो साल पहले अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन की घोषणा की थी.

साथ ही इस गगनयान मिशन का उद्देश्य भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने के अवसर पर 2022 तक तीन सदस्यीय टीम को पांच से सात दिनों की अवधि के लिए अंतरिक्ष में भेजना है. इसके मुताबिक इसरो ने मिशन की योजना बनाना शुरू कर दिया. इसके तहत दिसंबर 2020 में पहला मानव रहित मिशन भेजने की योजना है और जून 2021 में दूसरा मानव रहित मिशन भेजने का विचार है.

Read Also  36th national games 2022 उद्घाटन समारोह में पीएम के सामने बिना ब्‍लेजर मार्च पास्‍ट करेगी झारखंड टीम

इसरो की ओर से पहले ही संकेत मिल चुके थे कि कोरोना वायरस के कारण होने वाले अवरोधों के कारण इसरो की कार्यप्रणाली प्रभावित हुई है. जिसके कारण कई अभियानों में देरी हो सकती है. जो प्रमुख परियोजनाएं प्रभावित हुई हैं उनमें चंद्रयान 3 और गगनयान हैं. चंद्रयान 3, चंद्रमा पर भेजा जाने वाला तीसरा मिशन, इस साल के अंत में लॉन्च होने की उम्मीद है.

दूसरी ओर, सूत्रों से पता चला है कि अंतरिक्ष में मनुष्यों को भेजने के लिए मिशन की 2022 समय सीमा का पालन करने के लिए प्रयास जारी हैं. एक सूत्र ने कहा, “हम मानव रहित मिशन भेजने के लिए दिसंबर 2020 की समय सीमा को पूरा नहीं कर पाएंगे. कोरोना वायरस महामारी ने कई व्यवधान पैदा किए हैं. अंतरिक्ष आयोग को भी हाल ही में यह बताया गया था.”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.