रांची रणजी टीम से खेलने वाला ईशान किशन अपने मेंटर महेंद्र सिंह धोनी जैसा आक्रामक

by

आईपीएल (IPL)  2020 में धमाकेदार प्रदर्शन करने बाद ईशान किशन ने टी20 से शानदार डेब्‍यू किया है. अपने पहले मैच में इंग्‍लैंड के खिलाफ वह एमएम अपने मेंटर एमएम धोनी की तरह आक्रामक बल्‍लेबाजी करते दिखे. ईशान किशन इंग्‍लैंड के खिलाफ खेलते हुए चौको छक्‍कों की बरसात कर दी. ईशान किशन ने इंटरनेशनल क्रिकेट में अपने डेब्यू मैच में फिफ्टी ठोकी. ईशान तेजी से  32 गेंदों पर 52 रन बनाकर आउट हुए। ईशान ने सिर्फ 28 गेंदों में फिफ्टी मारी। उन्होंने अपनी पारी में 4 छक्के और 5 चौके लगाए.

चलिए आपको बताते हैं कौन हैं ईशान किशन जिन्होंने विराट कोहली के साथ मिलकर धुंआधार बल्लेबाजी की और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ जीत दिलायी.

ईशान किशन अभी तक 44 प्रथम श्रेणी के क्रिकेट मैच खेल चुके हैं जिनमें उन्होंने पांच शतक और पंद्रह अर्धशतक सहित 2665 रन बनाए है. इसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 273 रन है जो बताता है कि वह बड़ी पारी भी खेल सकते हैं.

Read Also  Images: MS Dhoni के साथ फुटबॉल खेलने पहुंचे Ranveer Singh, गले लगाकर भावुक हुए

विकेट के पीछे भी वह 90 कैच और 11 स्टंप कर चुके हैं.

इस कारनामे के बाद रांची रणजी से खेलने वाले इस क्रिकेटर की सोशल मीडिया में खूब चर्चा हो रही है और इसकी तुलना महेंद्र सिंह धोनी से कर रहे हैं जो मूलत: रांची से हैं. Twitter पर #IshanKishan खूब ट्रेंड किया.

बिहार निवासी ईशान किशन को क्‍यों खेलना पड़ा रांची से

Ishan Kishan का जन्म 18 जुलाई 1998 पटना, बिहार में हुआ था. उनके पिता का नाम प्रणव पाण्डेय है जो की पेशे से बिल्डर है. Ishan Kishan एक बांये हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज़ है जो दोनों में बहुत माहिर है. इशान के कोच संतोष कुमार का कहना है कि, ” इशान किशन की प्रतिभा महेंद्र सिंह धोनी और ऑस्ट्रेलिया के गिलक्रिस्ट की तरह है.”

Read Also  Images: MS Dhoni के साथ फुटबॉल खेलने पहुंचे Ranveer Singh, गले लगाकर भावुक हुए

इशान के करियर में उनके कोच संतोष कुमार की भी खास भूमिका है क्योंकि जब BCCI ने बिहार क्रिकेट एसोसिएशन की मान्यता किसी कारण से रद्द कर दी थी, तब इशान के कोच यानि संतोष कुमार जी ने उन्हें सलाह दी की उन्हें बाहर या किसी और स्टेट में जाकर खेलना चाहिए. इस बात को इशान और उनके पिताजी दोनों समझे चुकी इशान के पिताजी भी चाहते थे की उनका बेटा क्रिकेट में ही कुछ करे तो उन्होंने अपने बेटे यानि इशान किशन को रांची भेज दिया.

रांची पहुंचकर इशान ने अपने नए करियर की शुरुआत की और अपनी प्रतिभा को बरक़रार रखते हुए आगे बढे. इशान की लगन और मेहनत रंग लायी और वो झारखंड की रणजी टीम में चयनित हो गये.

Read Also  Images: MS Dhoni के साथ फुटबॉल खेलने पहुंचे Ranveer Singh, गले लगाकर भावुक हुए

रणजी ट्रॉफी मैच में इशान किशन ने दिल्ली के खिलाफ सर्वोच्च 273 रन बनाये जो झारखंड के लिए एक खिलाड़ी का रणजी में सर्वोच्च स्कोर है. 22 दिसम्बर 2015 को 2016 में होने वाले अंडर-19 विश्वकप के लिए भारतीय टीम की कमान सौपी गयी. वह एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ है, वो अपनी टीम के लिए ओपनिंग करते है और टीम की परिस्थिति के हिसाब से मध्यक्रम में भी बल्लेबाज़ी कर सकते है.

आईपीएल करियर की शुरुआत (Debut In IPL)

अंडर-19 का वर्ल्डकप इशान किशन के लिए बहुत अच्छा साबित हुआ और जल्द ही इस वर्ल्डकप के बाद उनको आईपीएल का बुलावा आ गया. 2017 आईपीएल में इशान किशन को गुजरात लायंस की टीम से खेलने का मौका मिला. गुजरात लायंस की टीम में भी इशान किशन ओपनिंग बल्लेबाज़ थे.

Categories Cricket

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.