यूथ के लिए पॉलिटिक्स क्या वाकई में कीचड़ है?

by

Poonam Kumari/Praveen Kumar

Ranchi: पॉलिटिक्स को अक्सर आम लोग कीचड़ समझते हैं. ऐसे में आज हमने युवा दिवस के अवसर पर मौजूदा युवाओं से या जानने की कोशिश की, क्या सच में पॉलिटिक्स एक कीचड़ है, जब वह राजनीति में दिलचस्पी रखते हैं. क्योंकि युवाओं के बागडोर मैं सता होती है. वह किसी को अपना नेता चुन भी सकते हैं और किसी को हटा भी सकते हैं.

तो चलिए आगे देखते हैं कि आज के युवा पॉलिटिक्स में दिलचस्पी रखते हैं या उसी कीचड़ समझते हैं.

Read Also  रांची में लाइटहाउस परियोजना का निर्माणकार्य विरोध प्रदर्शन कर रोका, लोगों ने कहा- पहले मालिकाना हक दे सरकार

कुछ युवाओं से हमने जनरल नॉलेज की जानकारी ली कि वह झारखंड सरकार के मुख्यमंत्री, मंत्री मंडल तथा विभागों के कामकाज के बारे में कितना जानते हैं?

युवा कितना जाने है अपनी सरकार को:

तो हमने यह जाना कि वह मंत्रियों के बारे में जानते हैं साथ ही साथ उनके गुणों और अवगुणों की जानकारी रखते हैं.

फिर कुछ युवाओं से हमने यह पूछा कि इस भागदौड़ की जिंदगी मैं क्या वह राजनीति में इंटरेस्ट रखते हैं?

युवाओं का राजनीति में इंटरेस्ट

अधिकतर युवा से हमने यह जाना कि इतनी व्यस्त होने के बाद भी पॉलिटिक्स में रुचि रखते हैं, और कहीं ना कहीं अपने हक व जिम्मेदारियों को भी समझते हैं. पर अपने निजी जीवन में पढ़ाई, घर बार, नौकरियां, पर्सनल प्रॉब्लम को लेकर ज्यादा पॉलिटिक्स को अंदर से जाने की कोशिश नहीं करते.

Read Also  युवती ने स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बन्‍ना गुप्‍ता को मुंह में सुना दी खरी-खोटी

युवा हमारे देश के भविष्य है, तो हम यहां जाने की कोशिश की जब वोट करते हैं तो किन बातों का ध्यान रखें वोट डालते हैं वह अपना नेता किसे चुनना चाहते हैं?

युवाओं द्वारा नेता का चुनाव

बहुत से युवा का कहना है कि वह अपने नेता ऐसा चुना चाहते हैं जो उनके बारे में सोचें, संपूर्ण सुरक्षा प्रदान करें, लोगों के हित में सोचें, और उन्हें डेवलपमेंट की ओर ले जाए।

वहीं, दूसरी तरफ कुछ युवाओं का कहना है की वह वोट डालने से पहले घर वालों, बुजुर्गों से पूछते हैं कि किसे वोट देना चाहिए, और वह उन्हें वोट देते हैं, जिसके जीतने के चांस अधिक होते हैं.

Read Also  रांची के एसआरएल लैब, एस शरण लैब और मेडिका को उपायुक्‍त ने लगाया जमकर फटकार, कोविड टेस्‍ट में ढिलाई बरतने पर नोटिस जारी

इस तरह हमें यह देखने को मिलता है कि आज के कुछ युवा काफी जागरूक हैं. भागदौड़ की जिंदगी में भी युवा राजनीति में थोड़ा इंटरेस्ट रखते ही है. साथ ही साथ कुछ युवा राजनीति से अनजान भी है. अपने जनप्रतिनिधियों के उम्‍मीदों पर खरा नहीं उतरते देख वे उनसे नाराज हैं, बल्कि आक्रोशित भी हैं.

(पूनम और प्रवीन गॉस्‍नर कॉलेज रांची में पत्रकारिता के स्‍टूडेंट हैं.)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.