Take a fresh look at your lifestyle.

क्‍या सीएम रघुवर दास से ज्‍यादा मजबूत है बीजेपी कार्यकर्ताओं का सिर?

0

Ranchi: 2 मार्च 2019 को भारतीय जनता पार्टी झारखंड प्रदेश ने पूरे राज्य में विजय मोटरसाइकिल संकल्प रैली निकाली. इस रैली में मुख्यमंत्री के अलावा सांसद, विधायक और संगठन के पदाधिकारी शामिल हुए. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गृह क्षेत्र जमशेदपुर में रैली का नेतृत्व किया.

सीएम रघुवर दास भी बीजेपी का झंडा हाथों में थामें बाइक से सड़कों पर उतरे. यह अच्‍छी बात है कि उन्‍होंने सड़क सुरक्षा नियम का पूरा खयाल रखा. बाइक में पीछे बैठने के बावजूद अपने सिर पर हेलमेट लगाया.

बीजेपी की विजय मोटरसाइकिल संकल्‍प रैली में सीएम को छोड़कर बाइक पर पीछे बैठने वाले किसी भी सवार ने हेलमेट नहीं लगाया. इस रैली में कई शामिल बाइक चलाने वाले कार्यकर्ताओं ने भी हेलमेट पहनना जरूरी नहीं समझा. वहीं बीजेपी की इस रैली में कई ऐसे भी थे जो एक बाईक पर दो से अधिक लोग सवार थे. बाइक रैली में सीएम के सामने खुल्‍लम खुल्‍ला सड़क-यातायात नियमों की अनदेखी की गयी.

Gilua1

बड़ा सवाल यह है कि किसी पार्टी का झंडा थाम लेने के बाद क्‍या किसी को भी सड़क नियमों की धज्जियां उड़ाने की छूट मिल जाती है. रैलियों में सभी राजनीतिक संगठनों के द्वारा अक्‍सर ऐसा ही किया जाता है. 2 मार्च 2019 को ही रांची में राहुल गांधी की रैली थी. इसमें बाइक और जुलूस की शक्‍ल में लोग शामिल होने के लिए पहुंचे. इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा सड़क जाम जैसी स्थिति देखने को मिली.

50 फीसदी सड़क हादसे दो पहिया वाहन से

एक अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक सड़क हादसों में होने वाली मौतों में 50% से ज्यादा दो पहिया वाहनों से हुए हादसों में होती है. इनमें 90% बिना हेलमेट वाले बाइक सवार होते हैं. आंकड़े परखने के लिए अखबार की ओर से झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स का मुआयना किया.  यहां आईसीयू और एचडीयू मिलाकर कुल 30 मरीज भर्ती मिले। इनमें से 25 मरीज रोड एक्सीडेंट के और इसमें भी 18 बाइक दुर्घटना के शिकार थे.

bjp-rally.jpg

झारखंड में हर साल करीब 2 हजार लोगों की मौत सड़क हादसों में होती है. इनमें से ज्यादातर शहरों की भीड़भाड़ में होने वाले दो-पहिया वाहनों के हादसों में मरने वाले होते हैं. बाइक दुर्घटना के शिकार होकर रिम्स पहुंचे अधिकतर मरीजों में एक समानता दिखी. उनके सर में गंभीर चोट है. कुछ के हाथ टूटे हैं तो कुछ लोगों के गर्दन और रीढ़ की हट्‌डी टूटी है. शहर के अधिकतर निजी हॉस्पिटल के न्यूरो सर्जरी डिपार्टमेंट का भी यही हाल है. सड़क दुर्घटना के 10 में 7 मरीज बाइक दुर्घटना के है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More