कोरोना नियंत्रण को लेकर निजी अस्पतालों को निर्देश- डॉक्यूमेंटेशन से ज्यादा मानवीय जीवन को दें अहमियत

by

Ranchi: कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच रांची जिला प्रशासन ने जिले के सभी निजी अस्पताल संचालकों के साथ खास बैठक की. इस बैठक में उपविकास आयुक्त रांची अनन्य मित्तल, अनुमण्डल पदाधिकारी रांची सदर समीरा एस, अनुमण्डल पदाधिकारी बुण्डू उत्कर्ष गुप्ता, कार्यपालक दंडाधिकारी श्वेता वेद एवं विभिन्न निजी अस्पतालों के संचालक/प्रतिनिधि उपस्थित थे.

बैठक के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए निजी अस्पतालों को व्यवस्था सुनिश्चित करने का निदेश दिया. उपायुक्त ने सभी निजी अस्पतालों से बारी-बारी बेड की उपलब्धता, आईसीयू, वेंटीलेटर आदि की जानकारी ली. निजी अस्पतालों के संचालकों/प्रतिनिधियों से उन्होंने कहा कि कोरोना फिर से पांव पसार रहा है इस बार पिछले साल की व्यवस्था से बेहतर करने का प्रयास करें.

Read Also  झारखंड में कोरोना से निपटने के लिए हेमंत सोरेन ने सेना से मांगी मदद

सभी निजी अस्पताल के संचालकों/प्रतिनिधियों को अस्पताल में एडमिट होनेवाले और डिस्चार्ज होनेवाले कोविड-19 मरीजों का डेटा फैसिलिटी ऐप में अपडेट करने का निदेश दिया गया.

डॉक्यूमेंटेशन से ज्यादा मानव जीवन का महत्व

बैठक के दौरान उपायुक्त छवि रंजन ने कहा कि किसी भी मरीज का इलाज ससमय शुरु करें, जांच के नाम पर किसी की जान नहीं जानी चाहिए, डॉक्यूमेंटेशन से ज्यादा मानव जीवन का महत्व है. कोरोना से संबंधित दिशा निर्देशों का सावधानी से पालन करते हुए उपायुक्त ने मरीजों का इलाज करने का निदेश दिया.

उपायुक्त ने कहा कि निजी अस्पताल, होटल के साथ समन्वय स्थापित कर टाईअप कर सकते हैं.

बैठक के दौरान अनुमण्डल पदाधिकारी रांची सदर समीरा एस ने कहा कि सभी निजी अस्पताल कोविड मरीजों के इलाज के लिए तय दर ही चार्ज करें. साथ ही उन्होंने ठीक होनेवाले मरीजों का नाम पता मोबाइल नंबर और उम्र का भी ब्यौरा रखने का निदेश दिया ताकि प्लाज्मा की आवश्यकता होने पर संबंधित ठीक हुए मरीज से संपर्क किया जा सके.

Read Also  झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक संपूर्ण लॉकडाउन, जानिए क्‍या है गाइडलाइन

उपविकास आयुक्त अनन्य मित्तल ने कहा कि सभी निजी अस्पताल मरीजों की इलाज के तय किये गये दर का पालन करें स्वास्थ्य विभाग द्वारा इसकी मॉनिटरिंग की जा रही है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.