जानकारी: ऑनलाइन ठगी के शिकार होने पर कैसे पास सकते हैं बैंक से पैसे वापस

by

हाल ही में मुंबई में एक बिजनेसमैन के बैंक अकाउंट से रातोंरात 1.86 करोड़ रुपये गायब हो गए. उसके फोन पर रात में कुछ मिस्‍ड कॉल आई और सुबह तक नंबर भी बंद हो गया और बैंक अकाउंट से करोड़ों गायब हो गए. ऑनलाइन फ्रॉड का ये कोई पहला केस नहीं है. भारत में आए दिन कई लोग ऑनलाइन ठगी का शिकार होते हैं.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, 2017-18 में साइबर फ्रॉड में काफी बढ़ोतरी देखने को मिली. इस एक साल में साइबर फ्रॉड के 2,059 केस दर्ज किए गए, जिनमें 109.6 करोड़ रुपये ग्राहकों के अकाउंट से निकाल लिए गए.

ऑनलाइन ठगी के शिकार कैसे वसूल सकते हैं बैंक से पैसे

  • आरबीआई के मुताबिक अगर आप फ्रॉड का शिकार हुए हैं, तो आपको अपने बैंक को तीन दिन के भीतर इसकी जानकारी देने होगा.
  • इसके बाद बैंक मामले की जांच करेगा और देखेगा कि पैसे आपकी गलती के कारण किसी दूसरे खाते में ट्रांसफर हुए हैं या आप धोखाधड़ी का शिकार हुए हैं या फिर किसी ने आपके अकाउंट से पैसे निकाल लिए हैं.
  • अगर आप साइबर फ्रॉड का शिकार हुए हैं, तो बैंक चोरी हुए पैसों की भरपाई करेगा. लेकिन ये भरपाई कुछ शर्तों के आधार पर होगी.
  • सबसे पहले अपने अकाउंट, कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग को बंद कराएं. इसके बाद पुलिस में फ्रॉड की शिकायत दर्ज कराएं.
  • बैंक में एफआईआर की कॉपी लेकर जाएं. इसके आधार पर बैंक फ्रॉड की जांच करेगा.
  • अगर आप फ्रॉड का शिकार हुए हैं, तो बैंक आपके पैसे की भरपाई करेगा. लेकिन अगर गलती आपकी है, तो आपको ही नुकसान उठाना पड़ेगा.
  • अगर कस्टमर और बैंक, दोनों की ही गलती नहीं है और कस्टमर चार से सात दिनों के भीतर बैंक के पास शिकायत लेकर जाता है, तो बैंक उसे 5,000 से 25,000 रुपये तक का भुगतान करेगा.
  • अगर कस्टमर सात दिनों के बाद बैंक के पास फ्रॉड की शिकायत लेकर जाता है, तो बैंक का बोर्ड इस पर निर्णय लेगा.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.