81 साल के संतोष आनंद के एंट्री से इमोशनल हो गया इंडियन आइडल शो, नेहा कक्‍कड़ के आंखों में भर गए आंसू

by

मोहब्बत है क्या चीज, इक प्यार का नगमा है, मेघा रे मेघा रे मत जा तू परदेश, जिंदगी की ना टूटे लड़ी प्यार कर ले घड़ी दो घड़ी जैसे कई सदाबहार गाने आज भी बड़े खूब सुने जाते हैं. सोनी टीवी के इंडियन आइडल ऑडियंस से भरा पूरा शो गुजरे जमाने के गीतकार संतोष आनंद के एंट्री से इमोशनल हो गया. नेहा कक्‍कड़ की आंखों में आंसू आ गए. वह फूट-फूट कर रोने लगी. ‘इंडियन आइडल’ के मंच पर इस शाम लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की हिट जोड़ी में से प्यारेलाल जी भी मौजूद थे. आपको बताते हैं कौन हैं संतोष आनंद जी. इंडियल आइडल शो में उनके एंट्री होते ही क्‍या कुछ माहौल रहा.

70 के दशक में संतोष आनंद ने कई शानदार गीत लिखे. फिल्म रोटी कपड़ा और मकान के लिए ‘और नहीं बस और नहीं’ और ‘मैं ना भूलूंगा’ जैसे गानों को लिखा था. इसके लिए संतोष को उनका पहला बेस्ट लिरिसिस्ट का फिल्मफेयर अवार्ड मिला था. उसके बाद उन्‍होंने क्रांति, प्‍यास सावन और प्रेम रोग जैसी फिल्‍मों के लिए गाने लिखे. मोहब्‍बत क्‍य’ चीज के लिए संतोष आनंद को फिल्‍म फेयर अवार्ड मिला.

संतोष आनंज आज 81 साल के हैं. बूढ़े हो गए हैं. शारीरिक तौर पर लाचार हैं. आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं. इसी की वजह से कुछ साल पहले 214 में बेटा और बहू ने आत्‍महत्‍या कर लिया. इंडियन आइडल शो में उन्‍होंने बताया कि शादी के 10 साल बाद बेटा हुआ था. बताया जाता है कि आत्‍महत्‍या से पहले बेटा संकल्‍प ने 10 पेज का सुसाइड नोट भी लिखा था.

इंडियल आइडल शो में संतोष आनंद की भावुक बातें

इंडियन आइडल शो में संतोष आनंद ने कहा- बरसों बाद मैं मुंबई आया हूं. अच्छा लग रहा है. एक उड़ते हुए पंक्षी की तरह मैं यहां आता था और चला जाता था. रात-रात भर जग के मैंने गीत लिखे. मैंने गीत नहीं, अपने खून और कलम से लिखे. इतना अच्छा लगता है वो दिन याद करके. आज तो मेरे लिए ऐसा लगता है जैसे दिन भी रात हो गया है.’



वह आगे कह रहे हैं, ‘मैं जीना चाहता हूं बहुत अच्छी तरह से. पैदल जाते थे देवी यात्राओं पर, पीले कपड़े पहनकर. राम जी ने मुझपर कृपा भी बहुत की थी. बहुत कुछ दिया भी था. सबकुछ कैसे चला गया. राम जी का कपाट किसने बंद कर दिया, मुझे आजतक पता नहीं चला. अब वो दौर तो नहीं, लेकिन इतना कहना चाहता हूं- जो बीत गया है वो अब दौर न आएगा, इस दिल में सिवा तेरे कोई और न आएगा. घर फूंक दिया हमने अब राख उठानी है, जिंदगी और कुछ भी नहीं तेरी मेरी कहानी है.’

नेहा कक्‍कड़ से 5 लाख लेने से किया इनकार

बूढ़े हो चुके संतोष आनंद की परेशानी देख और सुनकर सिंगर नेहा कक्‍कड़ बहुत भावुक हो गई. उनकी आंखों में आंसू आ गए. उन्होंने कहा, ‘आपके लिखे जो गीत हैं उनसे हम सबने प्यार करना सीखा है. दुनिया के बारे में जाना है और सर मैं मेरी तरफ से आपको 5 लाख रुपए की भेंट देना चाहती हूं.’ यह सुनकर संतोष आनंद रो पड़े और कहा- मैं बड़ा स्वाभिमानी हूं, आज तक मैंने किसी से कुछ भी नहीं मांगा, मैं आज भी मेहनत करता ही दूर-दूर जाकर. नेहा ने रोते हुए जवाब दिया- आप ये समझिए की ये आपकी पोती की तरफ से है. इसके बाद रोते हुए संतोष आनंदर कह पड़े- उसके लिए मैं स्वीकार करूंगा.’

मौके पर विशाल ददलाइन ने संतोष आनंद से उनके लिखे बाकी गीत मांगे और उन्‍हें रिलीज करने का वादा किया.  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.