‘भारत बंद’ आज, किसान करेंगे चक्का जाम, एम्बुलेंस नहीं रोकेंगे, इन चीज़ों पर रहेगी पाबंदी

by

New Delhi: किसानों द्वारा आज भारत बंद (Bharat Bandh) का आह्वान किया गया है. किसान नए कृषि कानूनों (Farms Laws 2020) के खिलाफ पिछले 13 दिनों से दिल्ली में आंदोलन कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि नए कृषि कानूनों को किसी भी कीमत पर वापस लिया जाये. अब तक पांच दौर की हुई सरकार से वार्ता में किसानों की मांगों का हल नहीं निकल सका है. नौ दिसंबर को सरकार से फिर बातचीत होनी है, लेकिन इससे पहले आज किसानों का भारत बंद आह्वान किया है. दिल्ली, यूपी, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र सहित कई और राज्यों में इसका असर देखने को मिल सकता है.

भारत बंद को राजनीतिक समर्थन भी मिल रहा है. 24 राजनीतिक दल हैं, जिन्होंने किसानों को समर्थन देने का ऐलान किया है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी एक दिन पहले आंदोलन स्थल पर पहुंचे थे और समर्थन देने की बात कही थी. कांग्रेस सहित आम आदमी पार्टी, सपा, बसपा, आरजेडी, शिवसेना, अकाली दल, डीएमके, टीआरएस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, गुपकर गठबंधन सहित कई वामपंथी पार्टियों ने किसानों का समर्थन करने का ऐलान किया है. ये पार्टियाँ दिल्ली के अलावा अपने अपने क्षेत्रों में प्रदर्शन करेंगी. 

Read Also  मानभूम-जंगलमहल क्षेत्रीय प्रशासन का अविलंब गठन हो: सुदेश महतो

दोपहर तीन बजे तक चक्का रहेगा जाम

भारत बंद के दौरान तीन बजे तक चक्का जाम किये जाने की यूजना है. बंद को लेकर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को कानून व्यवस्था बनाए रखने के दिशा-निर्देश जारी किये हैं. किसान नेताओं ने बताया कि पूरे देश में मंगलवार सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर 3 बजे तक चक्का जाम रहेगा. हालांकि प्रदर्शकारी किसानों ने यह भी साफ कर दिया है कि बंद कराने के लिए किसी भी व्यक्ति से बदसुलूकी और ज़बरदस्ती नहीं की जाएगी. शादियों और एम्बुलेंस को नहीं रोका जायेगा, लेकिन दूध, फल, सब्जियां और अन्य वस्तुओं पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी.

इन सेवाओं पर पड़ सकता है असर

‘भारत बंद’ से दिल्ली में मुश्किल हो सकती है. दिल्ली के कैब चालकों एवं मंडी कारोबारियों के कई संघों ने शामिल होने की बात कही है. इसका असर ये होगा कि राजधानी दिल्ली में यातायात सेवा और फलों एवं सब्जियों जैसी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो सकती है. कुछ टैक्सी और कैब संघों ने एक दिन की हड़ताल में भाग लेने का फैसला किया है. कारोबारियों का एक समूह भी किसानों की मांग का समर्थन कर रहा है, जिसके कारण बड़ी सब्जी एवं फल मंडियों में काम बाधित होने की आशंका है. आजादपुर मंडी (Azadpur Mandi) के अध्यक्ष आदिल अहमद खान ने कहा, ‘किसानों द्वारा किए गए ‘भारत बंद’ के समर्थन में दिल्ली की आजादपुर मंडी और शहर की अन्य सभी मंडियां बंद रहेंगी.’

Read Also  ओरमांझी के Pundag Toll Plaza से सरकार को अब तक मिला 3 अरब 85 करोड़ से अधिक राजस्व, MEP Infrastructure पर करोड़ों बकाया

दिल्ली में सुरक्षा के इंतज़ाम कड़े, केंद्र सरकार ने राज्यों को दिए ये निर्देश

दिल्ली पुलिस ने कहा कि सुरक्षा के कड़े इंतजामों के बीच यदि कोई जबरन लोगों को रोकता है या दुकानें बंद कराता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. केंद्र सरकार ने राज्यों को दिशा निर्देश जारी किए हैं. केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि किसान संगठनों और उनके समर्थन में विपक्षी दलों द्वारा आहूत ‘भारत बंद’ के दौरान सुरक्षा कड़ी की जाए और साथ ही शांति सुनिश्चित की जाए. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जारी देशव्यापी परामर्श में कहा कि राज्य सरकारों तथा केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासकों को सुनिश्चित करना चाहिए कि कोविड-19 दिशा-निर्देशों का पालन किया जाए और सामाजिक दूरी बनाए रखी जाए.

Read Also  ओरमांझी के Pundag Toll Plaza से सरकार को अब तक मिला 3 अरब 85 करोड़ से अधिक राजस्व, MEP Infrastructure पर करोड़ों बकाया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.