इमरान के पीएम बनते ही इंडिया से दोस्‍ती के लिए पाक क्‍यों है उतावला

by

पाकिस्तान के नए नवेले प्रधानमंत्री बने इमरान खान ने भारत की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया है. पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर बातचीत की पेशकश की है. उन्होंने अपने खत में लिखा है कि भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के बीच अमेरिका में संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली के दौरान बातचीत हो.

पाक पीएम इमरान बोले – इंडिया दोस्‍ती का एक कदम बढ़ायेगा तो हम दो कदम बढ़ायेंगे

इमरान खान का यह पत्र प्रधानमंत्री मोदी के उस संवाद के जवाब में आया है जिसमें उन्होंने दोनों देशों के बीच सार्थक और रचनात्मक जुड़ाव की बात कही थी. वहीं प्रधानमंत्री ने यह बात इमरान खान की जीत के बाद दिए भाषण के बाद कही थी जिसमें इमरान बोले थे कि अगर भारत संबंधों को बेहतर करने के लिए कदम बढ़ाता है तो पाकिस्तान दो कदम बढ़ाएगा.

Read Also  Aadhar PAN link last Date: Aadhaar से PAN को लिंक करने की फिर बढ़ी डेडलाइन

पीएम मोदी ने इमरान के लेटर का दिया दो टूक जवाब

दोनों देशों के बीच बातचीत की संभावना की चर्चा इमरान खान के पीएम मोदी को 14 सितंबर को लिखे लेटर से शुरू हुई. इमरान खान ने पीएम मोदी के बधाई संदेश के जवाब में यह लेटर लिखा था. हालांकि, भारत का रुख साफ है कि ‘आतंक और वार्ता साथ-साथ नहीं हो सकती.’

भारत-पाक संबंधों के मौजूदा हालात

आपको बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस महीने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के इतर दक्षेस देशों के विदेश मंत्रियों की परिषद की अनौपचारिक बैठक में भाग ले सकती हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. सुषमा और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के बीच न्यूयॉर्क में बैठक की संभावना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनका कार्यक्रम तय करने पर काम चल रहा है.

Read Also  Aadhar PAN link last Date: Aadhaar से PAN को लिंक करने की फिर बढ़ी डेडलाइन

पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा था कि न्यूयॉर्क में कुरैशी और सुषमा के बीच द्विपक्षीय बैठक के लिए भारत से ‘बातचीत’ की जा रही है. साल 2015 के बाद से दोनों देशों के बीच महत्वपूर्ण वार्ता नहीं हुई है. गौरतलब है कि भारत के साथ तनाव को कम करने के लिए, पाकिस्तान ने इस महीने के शुरू में अमेरिकी सहायता मांगी थी और कहा था कि अफगानिस्तान के साथ पश्चिमी सीमा पर ध्यान केंद्रित करने के लिए पूर्वी सीमा पर शांति चाहिए. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की यात्रा के दौरान, कुरैशी ने मुद्दा उठाया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.