IED Blast में झारखंड जगुआर के तीन जवान शहीद

by

Jamshedpur: IED Blast in West Singhbhum झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले के टोकलो थाना क्षेत्र के लांजी गांव स्थित पहाड़ी के क्षेत्र में आइईडी विस्फोट में झारखंड जगुआर के तीन जवान शहीद हो गए. जिला पुलिस और सीआरपीएफ के जवान सर्च ऑपरेशन चला रहे थे. इसी दौरान नक्सलियों ने आईडी ब्लास्ट किया. इस दौरान तीन जवान शहीद हो गए जबकि दो जवान घायल हुए हैं. जवानों को एयरलिफ्ट कर रांची ले जाया जा रहा है.

जानकारी के मुताबिक गुरुवार सुबह यह घटना हुई. माह भर में जिले के अलग-अलग इलाकों से सत्तर से अधिक आइईडी व सिलेंडर बम जिला पुलिस व सीआरपीएफ ने अभियान चलाकर बरामद किए थे. कई गिरफ्तारियां भी हुईं. इसे देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा था कि नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं.

Read Also  आर्यन खान कब जेल से बाहर आएंगे, आज बॉम्‍बे हाईकोर्ट करेगा फैसला

टोकलो थाना क्षेत्र के लांजी में पूर्व में भी पुलिस व नक्सलियों के बीच  मुठभेड़ हो चुकी है. जिसमें घायल जवान को एयरलिफ्ट कर इलाज के लिए रांची भेजा गया था. विस्फोट की घटना के बाद क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया जा रहा है.

इधर, ताजा घटना के बाद कोल्हान प्रमंडल के डीआइजी राजीव रंजन सिंह, एसपी अजय लिंडा समेत पुलिस के जवान घटनास्थल के लिए रवाना हो हो गए. 

गोड्डा के रहनेवाले थे हेड कांस्टेबल देवेंद्र कुमार पंडित

घायल झारखंड जगुआर के तीसरे जवान की मौत मौके पर नहीं हुई. उन्होंने बाद में दम तोड़ा. मृत जवान का नाम देवेंद्र कुमार पंडित है. देवेंद्र पंडित गोड्डा जिले के बोआरीजोर प्रखंड के बड़घाना बिंदी ग्राम के निवासी थे. यह ललमटिया थाना क्षेत्र की सीमा पर है.

Read Also  आर्यन खान कब जेल से बाहर आएंगे, आज बॉम्‍बे हाईकोर्ट करेगा फैसला

घायल

1. कांस्टेबल दीप टोपनो (खूंटी)

3. कांस्टेबल निक्कू उरांव (लातेहार)

शहीद जवान

1. कांस्टेबल हार्डवर शाह (पलामू)

2. कांस्टेबल किरण सुरीन (सिमडेगा)

3 हेड कांस्टेबल देवेंद्र कुमार पंडित (गोड्डा)

नक्सलियों को भी भारी नुकसान

पुलिस सूत्रों के अनुसार मुठभेड़ में नक्सलियों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा है. एक-दो नक्सली पुलिस की गोलियों के शिकार हुए हैं. उनके गंभीर रूप से घायल होने अथवा मारे जाने का अनुमान लगाया जा रहा है. मुठभेड़ के बाद पुन: पुलिस व सीआरपीएफ का दल इलाके में सर्च अभियान चला रहा है. बताते चलें कि कोरोना काल आरंभ होने के बाद से ही पुलिस व नक्सलियों के बीच करीबन प्रत्येक माह मुठभेड़ का क्रम चलता रहा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.