आपके बच्‍चे के लिए कितने खतरनाक होते हैं सीनियर स्टूडेंट्स

by

अगर आपके बच्चे स्कूल जाते हैं तो जरा सावधान हो जाए. ना जाने कब स्कूल में आपका बच्चा किसी अपराध का शिकार हो रहा है. ताजा मामला दिल्ली के विवेक विहार इलाके के एक नामी स्कूल का है. यहां चौथी क्लास में पढ़ने वाले एक छात्र के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है. यौन शोषण का आरोप भी स्कूल के ही तीन सीनियर छात्रों पर लगा है. आरोप के मुताबिक तीनों छात्रों ने स्कूल बस के अंदर चौथी के क्लास के छात्र के साथ घिनौनी हरकत की. चौथी क्लास में पढ़ने वाला छात्र इस घटना के बाद परेशान हो गया और घर जा कर अपने आप को एक कमरे में बंद कर लिया.

तीन छात्रों ने उसके साथ गंदी हरकत की

मां के बार-बार पूछने पर उसने सारी आपबीती बताई. बच्चे ने मां को बताया कि जो तीन छात्रों ने उसके साथ गंदी हरकत की उनमे से एक छात्र 10वीं, एक आठवीं, ओर एक सातवीं क्लास का छात्र है. तीन दिन बच्चे के साथ गंदी हरकत की गई. घटना को अंजाम उस वक़्त बस के अंदर दिया गया जब स्कूल की छुट्टी होने के बाद घर लौटते हैं. बच्चे की मां ने स्कूल में शिकायत दी है.

इस मामले में स्कूल के प्रशासन का रवैया बेहद चौंकाने वाला है. शिकायत के बाद स्कूल प्रशासन ने बच्चे की मां से मिलना भी मुनासिब नहीं समझा. उल्टा परिवार पर मामला खत्म करने का दबाब डाला जा रहा है. परिवार ने विवेक विहार थाने में शिकायत दी है. पुलिस से शिकायत के बाद जांच शरू कर दी गई है. शिकायत पर केस दर्ज कर लिया गया है. इस मामले में फिलहाल स्कूल प्रशासन चुप्पी साधे हुए है. इस घिनोनी हरकत ने पूरे स्कूल पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है.

पीड़ित बच्चे की मां ने बताया कि वह हर रोज बच्चे को तैयार कर स्कूल भेजती थीं. स्कूल से लौटने के बाद बच्चा चहकता रहता था, लेकिन पिछले कुछ दिनों से वह स्कूल से लौटने के बाद बेहद शांत रहता था. गुरुवार को वह स्कूल से लौटने के बाद कमरे में बंद हो गया. काफी पूछताछ के बाद उसने बताया कि स्कूल बस में कुछ बड़े लड़के उसके साथ गंदी हरकत करते हैं. चौंकाने वाली बात यह है कि स्कूल बस में ड्राइवर के अलावा स्टॉफ भी होते हैं. इसके बाद मासूम के साथ ये सब होता रहा.

इस संबंध में स्कूल प्रशासन से संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि शिकायत के बाद आरोपी तीन छात्रों को निकाल दिया गया है. वहीं बसों के इंचार्ज टीचर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.