हेमन्त सरकार में शहीदों का सम्मान पहली प्राथमिकता है: मुस्ताक आलम

by

Ranchi: स्वतंत्रता सेनानी अमर शहीद टिकैत उमरांव सिंह एवं शेख भिखारी के 164वें शहादत दिवस पर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा रांची जिला समिति द्वारा जिलाध्यक्ष मुस्ताक आलम के नेतृत्व में ओरमांझी ब्लॉक चौक से जुलुस के साथ चुटुपालु स्थित शहीद स्थल  (वट वृक्ष)  पर पहुंच कर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया गया.

मौके पर झामुमो जिलाध्यक्ष मुशताक आलम ने कहा कि जिनके बदौलत हमने आजाद भारत और आजाद झारखण्ड के सपनों को साकार किया है, उसे झारखण्ड मुक्ति मोर्चा कभी भूला नहीं सकता है.  जब-जब मौका मिला है चाहे वह गुरूजी की सरकार रही हो या हेमन्त सोरेन जी की, हर समय शहीदों के सम्मान में खड़ी रही है.

शहीदों के परिजनों के लिए सरकार कर रही है काम

उन्‍होंने कहा कि गुरूजी ने खुद शहीद शेख भिखारी का गांव जाकर मदरसा बनवाने का काम किया था. हेमन्त सोरेन की 14 महीने की सरकार में भी तात्कालिन मंत्री हाजी हुसैन अन्सारी ने पुस्तकालय बनवाने का काम किया था. आज मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के निर्देश पर मंत्री हफिजुल हसन अन्सारी ने शहीद स्थल का सौंदर्यीकरण के लिए 3 करोड़ की राशि दिया है. हेमन्त सरकार में शहीदों का सम्मान, पहली प्राथमिकता में शामिल है. अब शहीदों के परिजनों को भी प्राथमिकता में रख कर हेमन्त सोरेन की सरकार काम कर रही है.

मौके पर जिला सचिव डॉ हेमलाल कुमार मेहता हेमू, जिला उपाध्यक्ष अश्विनी शर्मा, कलाम आजाद, धनमेन्द्र सिंह, कुदुस अन्सारी, लखिन्दर पाहन, जावेद अख्तर, आफताब आलम, मो असलम, बेलाल अंसारी,नरेश कुमार यादव, नागेश्वर महतो,रोशन तिग्गा, हारून रसीद, झबुलाल महतो, दिनेश महतो, परवेज आलम गुड्डू  , मो फरीद खान, राजमोहन महतो,सबीबुल रहमान, रतन अनमोल  सांचा, बब्लू मिंज़, मो अबुल,नसीम आलम, वसीम राबिया खान, जुबैर आलम, जिलकरुल्लाह अन्सारी, शिवचरण वेदिया, दीपक गोप, साहिल गोप, गोपाल पांडेय, राहुल वर्मा आदि शामिल थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.