रांची में CRPF पर पथराव, मुस्लिम बहुल इलाके हिंदपीढ़ी में बवाल

by

Ranchi: राजधानी रांची में हिंसा भड़क गई. कोरोनावायरस के संक्रमण के हॉटस्पॉट बने मुस्लिम बहुल हिंदपीढ़ी इलाके में शनिवार की देर शाम सीआरपीएफ और स्‍थानीय नागरिकों के बीच विवाद हो गया. इसके बाद लोगों ने कंटेनमेंट जोन में सुरक्षा के लिए तैनात सीआरपीएफ जवानों पर पथराव शुरू कर दिया. यहां सीआरपीएफ के साथ पूर्व पार्षद मोहम्‍मद असलम की बहस हो गई. आरोप है कि सीआरपीएफ जवानों ने इसके बाद पूर्व पार्षद की पिटाई कर दी. इसके बाद हंगामा बढ़ गया. मौके पर बड़ी संख्या में भीड़ एकत्र हो गई. इसके बाद सीआरपीएफ जवानों पर पथराव शुरू हो गया. गुरु नानक स्कूल में प्रशासन के आला अधिकारियों और समाज के लोगों के बीच बैठक हुई. हालात संभालने की का‍ेशिश की गई.

हिंदपीढ़ी पहुंचने वाले अलग-अलग मार्गों को प्रशासन ने किया सील

हिंदपीढ़ी पहुंचने वाले अलग-अलग रास्तों को पुलिस प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से सील कर दिया. आवागमन रोकने के लिए इन क्षेत्रों में जगह-जगह सुरक्षा बलों के जवानों की तैनाती कर दी गई. आईजी नवीन कुमार सिंह, डीसी राय महिमापत रे, एसएसपी अनीश गुप्ता मौके पर मौजूद हैं।सुजाता चौक, अल्बर्ट एक्का चौक, मारवाड़ी कॉलेज के समीप मंगल चौक, किशोरगंज चौक पेट्रोल से लाला लाजपत राय होते हुए हिंदपीढ़ी की ओर जाने वाली सभी सड़कों को ब्लॉक कर दिया गया.

सूचना मिलने के बाद पुलिस के वरीय अधिकारी मौके पर पहुंच  गए. हालात को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन की तरफ से आंसू गैस छोड़े गए. रबर की गोलियां चलाई गई. भारी संख्या में पुलिस बल पहुंच गया. नागरिकों की ओर से सीआरपीएफ और पुलिस बलों पर लगातार पथराव किया गया.

पत्थरबाजी के बाद पुलिस को करना पड़ा बल प्रयोग

घटनास्थल पर मौजूद कुछ प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो विवाद की सूचना मिलने के बाद अचानक चारों तरफ से भीड़ एकत्र हो गई. भीड़ में मौजूद कुछ लोगों ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी. इसके बाद हालात को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाबलों को बल प्रयोग करना पड़ा. भीड़ की तरफ से अचानक की गई पत्थरबाजी के लिए सुरक्षा बल तैयार नहीं थे. सुरक्षा में तैनात कुछ जवानों को हल्की चोटें भी आई हैं. हालांकि आधिकारिक रूप से आला अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं हो सकी.

इलाके का चर्चित चेहरा रहा है पूर्व पार्षद

स्थानीय लोगों ने बताया कि पूर्व पार्षद मोहम्मद असलम इलाके का चर्चित चेहरा रहा है. स्थानीय लोगों के बीच उसकी मजबूत पकड़ है. लिहाजा जैसे ही सुरक्षा बल और पूर्व पार्षद के बीच विवाद की खबर फैली. अलग-अलग गलियों से मौके पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा. पुलिस की दर्जनों पीसीआर वैन मौके पर भेजी गई. पूरे घटनाक्रम के कई हिस्से कुछ सीसीटीवी कैमरों में भी कैद हुए हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.