हेमंत सोरेन दिल्ली में केसी वेणुगोपाल से मिले, पीएम मोदी से भी मुलाकात का मांगा समय

by

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तमाम तरह के कयासों के बीच बुधवार को दिल्ली में कांग्रेस संगठन के राष्ट्रीय प्रभारी केसी वेणुगोपाल से मिले. इस मुलाकात में मंत्रिमंडल में बदलाव बोर्ड निगमों के गठन से लेकर ब्यूरोक्रेसी में बदलाव पर चर्चा की गई.

इसके अलावा प्रदीप यादव और बंधु तिर्की के मामले का हल ढूंढने की कोशिश हुई है. जिन मुद्दों पर कांग्रेस के साथ सहमति बनेगी उनको रांची आते ही मुख्यमंत्री जमीन पर उतारने की कोशिश करेंगे.

हालांकि एक विवाद के स्पष्ट होने की जानकारी है. जिसमें मंत्रिमंडल में रिक्त एक पद पर झामुमो अपने दावे से पीछे नहीं हटी है. झामुमो महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बुधवार को कहा कि 12वां मंत्री झामुमो का ही होगा. कांग्रेस और झामुमो के बीच 12वीं मंत्री पद के विवाद में अभी इस मंत्री पद के रिक्त ही रखने की ज्यादा संभावना है.

Read Also  हेमंत सरकार गिराने की साजिश में शामिल कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

हेमंत सोरेन ने पीएम मोदी से मिलने के लिए मांगा समय

मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मिलने की कोशिश कर रहे हैं. जो किसी भी समय संभव है. हालांकि प्रधानमंत्री से भी मुलाकात का समय मांगा गया है. लेकिन, अब तक पीएम से मिलने का मुख्यमंत्री को समय नहीं मिला है.

मंत्रिमंडल में बदलाव के मामले में सीएम ने गेंद कांग्रेस के पाले में डाल दिया है. अब कांग्रेस को तय करना है कि वह किस मंत्री को हटाना चाहती है. उसके बदले किसी मंत्री बनाना और कौन सा विभाग देना चाहती है.

12वीं मंत्री पद पर झामुमो का दावा

झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य के दावे के बाद राज्य में कांग्रेस झामुमो और राजद की सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सूत्रों का कहना है कि पहले ही तय हो गया था कि 4 विधायकों पर एक मंत्री बनेगा. इस फार्मूले के तहत 16 विधायकों वाली कांग्रेस को चार और झामुमो को साथ मंत्री पद मिलने थे. क्योंकि उसके 30 विधायक हैं. अब कांग्रेस में प्रदीप और बंधु तिर्की की आने से उसकी संख्या 18 हो गई है. लेकिन, झामुमो इस तर्क को नहीं मान रहा. क्योंकि, उसके विधायकों की संख्या भी 28 से 2 अधिक 30 है. साथ ही झामुमो ने अपने कोटे से राजद को एक मंत्री पद दिया है. इस विवाद में 12वीं मंत्री का पद अभी रिक्त ही रहने की ज्यादा संभावना है.

Read Also  महाराष्‍ट्र के पूर्व मंत्री और बड़े कारोबारी ने रची थी हेमंत सरकार गिराने की साजिश!

प्रदीप यादव और बंधु तिर्की पर भी बात

दिल्ली में प्रदीप यादव और बंधु तिर्की के लंबित विवाद को सुलझाने का रास्ता भी खोजा जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि बाबूलाल मरांडी की एक कारण लगभग डेढ़ साल से फंसे प्रदीप यादव और बंधु तिर्की अब आक्रोशित हो रहे हैं. अब तक उन्हें आश्वासन के माध्यम से शांत रखने की मुख्यमंत्री ने कोशिश की है. लेकिन, मामला अब आगे बढ़ रहा है. ऐसे में कांग्रेस को जल्द ही दोनों विधायकों के बारे में कोई स्पष्ट निर्णय लेना होगा.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.