Take a fresh look at your lifestyle.

Happy Diwali 2019 : अयोध्या में छोटी दिवाली में दिए जलाकर बना बड़ा ‘वर्ल्ड रिकॉर्ड’

0 0

Ayodhya : भगवान राम की नगरी अयोध्या में शनिवार को दीपोत्सव मनाया गया और यह गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया. दीपोत्सव के अवसर पर अयोध्या में इस बार करीब छह लाख दीप प्रज्जवलित होते ही इस कार्यक्रम ने विश्व रिकॉर्ड बना लिया.

4 लाख दस हज़ार दीप अकेले राम की पैड़ी के घाटों पर जलाए गए. वहीं दो लाख दीप रामनगरी के 11 अन्य चुनिंदा स्थलों पर प्रज्जवलित किए गए. दियों के जलते ही अयोध्या नगरी जगमग दीपों से जगमगा उठी. इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, पहले की सरकारें अयोध्या के नाम से डरती थीं, यहां आना नहीं चाहती थीं.

लेकिन ढाई वर्ष के अपने कार्यकाल में मैं डेढ़ दर्जन बार अयोध्या आ चुका हूं. जब भी आता हूं आप सबकी कृपा से सैकड़ों करोड़ रुपये की योजना यहां के लिए लेकर आता हूं. सूचना निदेशक शिशिर ने बताया कि इस बार चार लाख दस हजार दिये अकेले राम की पैड़ी के घाटों पर जलाये गये और यह घोषणा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्डस प्रतिनिधि द्वारा की गयी, जो कि एक नया कीर्तिमान है, इसके अलावा दो लाख से अधिक दिये राम की नगरी अयोध्या में 11 अन्य स्थानों पर प्रज्ज्वलित किये गये और दीपोत्सव कार्यक्रम में शनिवार को अयोध्या में कुल छह लाख से अधिक दिये प्रज्जवलित किये गये.

उन्होंने बताया कि पिछले साल तीन लाख एक हजार 186 दिये घाट पर जलाये गये थे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को रामकथा पार्क में आयोजित भागवान श्रीराम के प्रतीकात्मक राजतिलक के कार्यक्रम के अवसर 226 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि हमारी सात पवित्र नगरियों में तीन पवित्र नगरी अयोध्या, काशी और मथुरा हमारे उत्तर प्रदेश में हैं.

देश और दुनिया में इतना समृद्ध एवं सांस्कृतिक परिवेश किसी के पास नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राम की परंपरा पर हम सबको गौरव की अनुभूति होती है. अयोध्या का नाम आते ही रामराज्य हमारे मन मस्तिष्क में खुद-ब-खुद आ जाता है. रामराज्य शासन की एक ऐसी व्यवस्था है, जिसमें जाति, मत, मजहब, संप्रदाय, क्षेत्र और भाषा के आधार पर किसी के साथ भेदभाव ना हो.

विगत पांच वर्षों में शासन की योजनाओं को जिस प्रतिबद्धता के साथ देश के अंदर लागू किया गया है, यह आधुनिक रामराज्य का उदाहरण है. दीपोत्सव का कार्यक्रम अपने पवित्र स्थल और उनकी मर्यादा की रक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों का हिस्सा है. हजार वर्षों की अपनी विरासत के साथ आपको जोड़ते हुए और पर्यावरण की रक्षा करते हुए हम अपने आयोजन को सामूहिक रूप से आगे बढ़ा सकते हैं.

योगी ने कहा कि हमने कभी किसी को परेशान नहीं किया, लेकिन किसी ने हमारे शस्त्र या स्वाभिमान को ललकारने का प्रयास किया, तो उसके मांद में घुसकर मुंह तोड़ जवाब देने का कार्य आज भारत का नेतृत्व कर रह है. इससे ज्यादा गर्व की बात क्या हो सकती है. आज भारत दुनिया की एक महाशक्ति के रूप में फिर से विश्वगुरू के रूप में स्थापित हो रहा है.

इससे पहले राम, सीता और लक्ष्मण के हेलिकॉप्टर से अयोध्या आगमन का प्रतीकात्मक मंचन किया गया. खुद योगी ने सीता-राम और लक्ष्मण की आरती उतारी। प्रभु श्री राम का योगी और महंत नृत्य गोपाल दास ने राज्यसभिषेक भी किया.

इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मुख्य अतिथि के रूप में फिजी गणराज्य की उपसभापति वीना भटनागर, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल मौजूद रहे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.