रांची के ज्ञान राज ने केबीसी 13 में जीते हुए ईनामी राशि गंवा दिए

by

Ranchi: सोनी टीवी चैनल पर कौन बनेगा करोड़पति या‍नि केबीसी के 13वें सीजन की शुरुआत हो गई है. रांची के नगड़ी गांव के रहलने वाले ज्ञान राज इस सीजन के पहले प्रतियोगी हैं. महानायक अमिताभ बच्‍चन के इस शो में ज्ञानराज ने कई पड़ाव पार करते हुए कुल 3 लाख 20 हजार रुपये जीते हैं.

ज्ञान राज ने केबीसी के हॉट सीट पर बैठकर अमिताभ बच्‍चन के सवालों का जवाब दिया. उन्‍होंने इस गेम शो को खूब बढिया खेला. इस दौरान ज्ञान राज ने केबीसी के सवाल का गलत जवाब देकर जीते हुए 3 लाख 20 हजार रुपये गंवा दिए. उन्‍होंने 11 सवालों का जवाब देकर 6 लाख 40 हजार रुपये जीत लिए थे, लेकिन उन्‍होंने 12 लाख 50 हजार के 12वां सवाल का गलत जवाब दे दिया. इस तरह वे 3 लाख 20 हजार रुपये ही जीत सके.

केबीसी गेम शो में ज्ञान राज ने चारों लाइफ लाइन का इस्‍तेमाल किया. ऑडियंस पोल और फ्लिप द क्‍वश्‍चन लाइफ लाइन का इस्‍तेमाल पांचवें सवाल में ही कर लिया.

ज्ञान राज ने केबीसी में जीते हुए ईनाम के पैसे गंवा दिए

छठे, सातवें और आठवें सवाल का भी उन्‍होंने बड़ी आसानी से जवाब दे दिया. नौवें सवाल का भी उन्‍होंने सही जवाब दिया, लेकिन दसवें सवाल का जवाब वे नहीं जानते थे. इस पर उन्‍होंने एक्‍सपर्ट सलाह लिया और 3 लाख 20 रुपये जीते। 11वें सवाल का भी उन्‍हें जवाब नहीं पता था. इस पर उन्‍होंने 50-50 लाइफ लाइन का प्रयोग किया और सही जवाब देकर 6 लाख 40 हजार रुपये जीते. चूंकि आज ज्ञान राज का जन्‍मदिन है. इस पर अमिताभ बच्‍चन ने शो में ही हैप्‍पी बर्थ डे का गाना बजाया.

इधर, रांची में ज्ञान राज अपने घर में परिवार के सदस्यों और आस पड़ोस के लोगों के साथ टीवी पर कौन बनेगा करोड़पति देख रहे हैं. केबीसी के हॉट सीट पर बैठे ज्ञानराज को देखकर उनके घर और पड़ोस के लोग खुश हैं. वे ज्ञान राज को टीवी पर लाइव देख रहे हैं. ज्ञान राज अपनी मां और बहन के साथ केबीसी में भाग लेने गए थे. बता दें कि आज 23 अगस्‍त को ज्ञान राज का जन्‍मदिन है. उनके स्‍कूल में इस मौके पर केक काटा गया.

रांची के नगड़ी के रहने वाले ज्ञान राज ने 12वीं की पढ़ाई रांची के जेवियर कालेज से की है. वे 2012 में 12वीं कक्षा में स्टेट टापर थे. इसके बाद उन्होंने बीआइटी मेसरा से कंप्यूटर इंजीनियरिंग की.

ज्ञान राज बताते हैं कि उन्हें इसरो और रक्षा विभाग से भी नौकरी के लिए ऑफर मिला था. मगर उन्होंने अपने गांव में रहकर बच्चों को काबिल बनाने की ठानी.

गेम शो में अमिताभ बच्चन ने भी उनकी तुलना थ्री इडिएट के किरदार फुनसुख वांगडू से की है. ज्ञान राज बच्चों को पाठ रटने के बजाए सीखने पर जोर देते हैं. यही कारण है कि उन्हें नीति आयोग के द्वारा टीचर फार चेंज सम्मान से सम्मानित किया गया है. ज्ञान राज का चयन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को परामर्श देने के लिए भी चयन हुआ था.

जीते पैसे से बच्चों के लिए करेंगे कुछ खास

ज्ञान राज बताते हैं कि वे कौन बनेगा करोड़पति में अपने जीते हुए पैसे को स्कूल में खर्च करेंगे. वे चाहते हैं कि यहां से पढ़कर निकलने वाले बच्चे रोजगार के जनक बनें. दुनिया में भारत का नाम रौशन करें.

उन्होंने बताया कि उनके स्कूल में बच्चों के सीखने पर फोकस रहता है. इसे उन्होंने स्कूल ज्वाइन करने के बाद और पुख्ता किया है. अब जीते हुए पैसे से बच्चों के लिए लैब का सामान खरीदेंगे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.