झारखंड के बीएड कॉलेजों में नामांकन के लिए दिशा निर्देश जारी, कैसे होगा इस बार का नामांकन ? जानें एडमिशन से संबंधित जरूरी बातें

by

B.ed Admissions in Jharkhand, Ranchi: झारखंड राज्य में कुल 136 सरकारी व निजी बीएड कॉलेज है. कोरोना के मद्देनज़र सूबे की सरकार ने सत्र 2021-2023 के लिए राज्य के सरकारी व निजी बीएड कॉलेजों में इस बार भी मेरिट के आधार पर नामांकन लेना तय किया है. वर्ष 2020 की तरह इस बार भी लिखित परीक्षा नहीं होगी. न्यूनतम योग्यता स्नातक के अंक के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार करने की जिम्मेवारी इस बार भी झारखंड संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा पर्षद को दी गयी है. पर्षद ही मेरिट लिस्ट तैयार कर काउंसेलिंग करेगी. चयनित विद्यार्थी सीएमएल रैंक के आधार पर राज्य के 136 बीएड कॉलेजों में से किसी एक में नामांकन ले सकेंगे.

Read Also  महाराष्‍ट्र के पूर्व मंत्री और बड़े कारोबारी ने रची थी हेमंत सरकार गिराने की साजिश!

वर्ष 2020 में भी कोरोना को देखते हुए पर्षद ने मेरिट लिस्ट के आधार पर विद्यार्थियों को संबंधित बीएड कॉलेज में नामांकन के लिए अनुशंसा की थी. चार बार काउंसेलिंग के बाद भी राज्य के कई कॉलेजों में सीटें खाली रह गयीं. बताया जाता है कि पर्षद द्वारा जिन कॉलेजों के लिए विद्यार्थियों का चयन किया, विद्यार्थी उक्त कॉलेज में नामांकन लेने के लिए गये ही नहीं. इस कारण कई कॉलेजों में सीटें खाली रह गयीं.

उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल ने जारी किया संकल्प :

बीएड में नामांकन को लेकर कैबिनेट से स्वीकृत प्रस्ताव के आधार पर उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल ने संकल्प जारी कर दिया है. इसमें कहा गया है कि कोरोना के कारण जेसीइसीइबी द्वारा अभी तक संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा 2021 का आयोजन नहीं किया जा सका है. जबकि, सर्वोच्च न्यायालय के मां वैष्णो देवी बनाम उत्तर प्रदेश सरकार वाद (2011-2012) में बीएड में नामांकन के लिए एक समय सीमा का अनुपालन करने को कहा गया है.

Read Also  हेमंत सरकार गिराने की साजिश में शामिल कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए पर्षद द्वारा मां वैष्णो देवी वाद के आधार पर राज्य सरकार द्वारा तय समय सीमा में संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा 2021 आयोजित नहीं की जा सकी है. अत: छात्रहित एवं बीएड कॉलेजों के अस्तित्व को बचाने के लिए नामांकन मेरिट के आधार पर लेना ही विकल्प बचा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.