आपके Whatsapp message पढ़ना चाहती है सरकार, ऐसा हुआ तो इंडिया में बंद हो जाएगी Service

by

India में Business कर रहीं सोशल मीडिया कंपनियों के लिए सरकार द्वारा प्रस्तावित कुछ नियम अगर लागू हो जाते हैं तो इससे Whatsapp के वर्तमान रूप के अस्तित्व पर India में खतरा आ जाएगा. कंपनी के एक शीर्ष कार्यकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. India में Whatsapp के 20 करोड़ मासिक यूजर्स हैं और यह कंपनी के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है. कंपनी के दुनिया भर में कुल 1.5 अरब यूजर्स हैं.

दिल्ली में एक मीडिया वर्कशॉप के मौके पर Whatsapp के कम्यूनिकेशन प्रमुख कार्ल वूग ने बताया कि, “प्रस्तावित नियमों में से जो सबसे ज्यादा चिंता का विषय है, वह मैसेजेज का पता लगाने पर जोर देना है, या उन्हें पढ़ना है.”

Facebook के स्वामित्व वाली Whatsapp डिफाल्ट रूप से End-to-end encryption की पेशकश करता है, जिसका मतलब यह है कि सिर्फ मैसेज भेजनेवाला और उसे हासिल करने वाला ही संदेश को पढ़ सकता है और यहां तक कि Whatsapp भी अगर चाहे तो भेजे गए संदेशों को पढ़ नहीं सकता है. वूग का कहना है कि इस फीचर के बिना Whatsapp का रूप ही बदल जाएगा और वह बिल्कुल नया उत्पाद बन जाएगा.

वूग अमेरिका में बराक ओबामा के राष्ट्रपति कार्यकाल में उनके प्रवक्ता के रूप में भी सेवाएं दे चुके हैं. उन्होंने कहा, “प्रस्तावित बदलाव जो लागू होने जा रहे हैं, वह मजबूत गोपनीयता सुरक्षा के अनुरूप नहीं हैं, जिसे दुनिया भर के लोग चाहते हैं.”

उन्होंने कहा, “हम End-to-end encryption मुहैया कराते हैं, लेकिन नए नियमों के तहत हमें हमारे उत्पाद को दोबारा से गढ़ने की जरूरत पड़ेगी.” उन्होंने आगे कहा कि ऐसी स्थिति में मैसेजिंग सेवा अपने मौजूदा स्वरूप में मौजूद नहीं रहेगी.

वूग ने नए नियम लागू होने के बाद भारतीय बाजार से बाहर निकल जाने की संभावना को खारिज नहीं करते हुए कहा, “इस पर अनुमान लगाने से कोई मदद नहीं मिलेगी कि आगे क्या होगा. इस मुद्दे पर भारत में चर्चा करने के लिए एक प्रक्रिया पहले से ही है.”

End-to-end encryption फीचर से कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए अफवाह फैलाने वाले अभियुक्तों तक पहुंचना मुश्किल होता है. लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित नियमों के तहत उनके अपनी सेवाओं के दुरुपयोग और हिंसा फैलाने से रोकने के लिए एक उचित प्रक्रिया का पालन करना होगा.

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.